आजादी का महोत्सव मनाने से पहले सुजानपुर के सवालों का बीजेपी को देना होगा जवाब : राजेंद्र राणा #news4
September 7th, 2022 | Post by :- | 73 Views

सुजानपुर : 5 साल तक सुजानपुर के साये तक से परहेज करने वाले बीजेपी के नेता अब सुजानपुर में क्या लेने आ रहे हैं। यह बात प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने कही है। राणा सुजानपुर की ग्राम पंचायत लग कडियार के लगदेवी में आयोजित वॉलीबाल टूर्नामेंट समारोह में बोल रहे थे। राणा इस समारोह में बतौर मुख्यातिथि पहुंचे थे। राणा ने कहा कि बीजेपी के झूठ और जुमले तो अब आम जनता की समझ में आ चुके हैं लेकिन अब बीजेपी की नई नौटंकी भी जनता की समझ में आने लगी है।

सत्ता के बावजूद 5 वर्षों तक किसने कैद किया सुजानपुर का विकास
राणा ने कहा कि जिस सुजानपुर के विकास को सत्ता के बावजूद व्यक्तिगत खुन्नसों में बीजेपी ने पूरे 5 साल तक कैद रखा, उसी सुजानपुर में अब आजादी का महोत्सव मनाए जाने की नौटकीं करने बीजेपी किस मुंह से आ रही है। उन्होंने कहा कि जो बीजेपी के नेता सत्ता के पूरे कार्यकाल एक-दूसरे से आंख तक मिलाने में गुरेज करते रहे वह सुजानपुर की जनता के जनादेश को ठगने को कौन-सी नई चाल लेकर आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसी बीच सबसे बड़ा सवाल यह है कि सुजानपुर के विकास को रोकने वाले वह कौन नेता थे जो जनता में लगातार बीजेपी की सत्ता और सरकार की फजीहत सुजानपुर में करते और करवाते रहे हैं।

सुजानपुर में मिनी सचिवालय का काम किसके इशारे पर लटकाया
राणा ने कहा कि सुजानपुर में करीब 5 साल पहले बनकर तैयार हो चुके मिनी सचिवालय का बचा 2-4 फीसदी काम किस कारण और किसके इशारे पर लटकाया गया है। एक मंच पर इकट्ठे होने वाले बीजेपी के नेताओं को यह जवाब सुजानपुर को देना होगा। शहर में बनने वाला टाऊन हॉल बजट स्वीकृत होने के बावजूद बीजेपी राज में किन कारणों से नहीं बन पाया, सुजानपुर जानना चाहता है। राणा ने कहा कि यह तो सुजानुपर शहर के विकास को ग्रहण लगाने के इक्का-दुक्का तर्क और तथ्य हैं लेकिन सुजानपुर का समूचा ग्रामीण क्षेत्र बीजेपी के राज में लगातार विकास को तरसता रहा है। विकास को क्यों तरसा व तड़पा, इसका जवाब बीजेपी को देना होगा। राणा ने कहा कि जनता यह भी जानना चाहती है कि सुजानपुर में बीजेपी द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम का लाखों का खर्चा बीजेपी किस फंड से कर रही है क्योंकि जब आम जनता विकास के लिए बीजेपी के पास बजट नहीं है तो पार्टी समारोहों की शानो-शौकत के लिए बजट कहां से आ रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।