पीएम आवास योजना के रुपए लेकर खरीदे बाइक, फ्रिज; अब 792 लोगों से होगी 3.80 करोड़ की वसूली
July 17th, 2019 | Post by :- | 143 Views

छत्तीसगढ़ : प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 2022 तक देश में सभी को छत देने की बात कही जा रही है। इसके लिए लक्ष्य और उसके पूरा होने के आंकड़े भी पेश किए जा रहे हैं, लेकिन जमीनी हकीकत चौकाने वाली है। सरकार मकान बनाने के लिए गरीबों के खाते में पैसे डाल रही है, लेकिन लोग पैसे लेकर खर्च कर लेते हैं। किसी ने उस पैसे से मोटर साइकल खरीद ली तो कोई टीवी, फ्रिज कूलर ले आया।

मकान के नाम पर कहीं पत्थरों का टीला तो कहीं मिली झोपड़ियां

  1. मकान के नाम पर कहीं पत्थरों का टीला है तो कहीं झोपड़ियां। परेशान जिला पंचायत ने ऐसे लोगों से राशि वसूली करने के लिए सभी एसडीएम को आरआरसी जारी करने कहा है। रायगढ़ जिले के सभी 9 जनपदों में ऐसे लोगों की संख्या करीब 792 है जिन्हें प्रथम किस्त की राशि 3 करोड़ 80 लाख रुपए जारी करने के बाद भी मकान नहीं बनाया है।
  2. जिला पंचायत की ओर से पीएम आवास योजना के तहत तीन किस्त में राशि जारी की जाती है। वर्ष 2011 सर्वे सूची में नाम शामिल होने पर ही प्रथम किस्त की राशि 48 हजार रुपए घर का निर्माण कार्य शुरू करने दिया जाता है। इसके बाद दूसरी किस्त के तहत 48 और तीसरी किस्त के तहत 24 हजार रुपए दिए जाते हैं। घर पूरा कंम्पलीट होने पर मनरेगा से मजदूरी के लिए 15 हजार दिए जाते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।