बिलासपुर …. बच्चा हंसते हुए अस्पताल पहुंचा, इंजेक्शन लगाते ही बिगड़ी तबीयत, चार घंटे बाद मौत
July 16th, 2019 | Post by :- | 431 Views

बिलासपुर. छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में सात वर्षीय एक बच्चे की इलाज के दौरान मौत हो गई। बच्चे को एक कीड़े ने काट लिया था और परिजन उसे लेकर लोरमी के सरकारी अस्पताल पहुंचे थे। वहां डॉक्टर ने उसे एंटी स्नैक बाइट इंजेक्शन दिया, जिसके चार घंटे बाद बच्चे की मौत हो गई। इसके बाद डॉक्टरों ने बच्चे का आनन-फानन में पोस्टमार्टम कराकर शव गांव भिजवा दिया। अब परिजनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

परिजनों का आरोप, चार घंटे इलाज करते रहे, तबीयत बिगड़ने पर भी नहीं किया रेफर

  1. दरअसल, लोरमी विकासखंड के सरईपतेरा गांव सात वर्षीय संदीप पुत्र मनोज साहू को किसी कीड़े ने रविवार को काट लिया। इस पर परिजन उसे 108 एंबुलेंस से लेकर लोरमी के सरकारी अस्पताल पहुंचे। यहां पर रविवार रात को ड्यूटी कर रहे डॉक्टर पंकज कंवर ने  संदीप को एंटी स्नैक बाइट इंजेक्शन लगा दिया। इससे कुछ घंटे बाद बच्चे की हालत बिगड़ने लगी। इस दौरान बच्चा रात 8 बजे से लेकर 12 बजे तक अस्पताल में ही रहा और फिर उसने दम तोड़ दिया।
  2. जब बच्चे को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, उस समय हंस खेल रहा था। इंजेक्शन लगने के कुछ घंटे बाद अचानक उसके मुंह और नाक से झाग निकलना शुरू हो गया। पूरा शरीर पसीने से भीग गया और रात करीब 12 बजे बच्चे की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि तबीयत बिगड़ने के बाद भी बच्चे को रेफर नहीं किया गया। वहीं यह भी आरोप है कि बीएमओ डॉ. जीएस दाऊ के निर्देश पर सोमवार सुबह 8 बजे ही बच्चे का पोस्टमार्टम कर शव को गांव रवाना कर दिया गया।
  3. बच्चे को देखने पर सांप काटने का लक्षण दिखाई दे रहा था। जिसका इलाज किया गया, लेकिन उसे बचा नहीं सके। रेफर करने के पहले ही बच्चे की मौत हो गई।
    डॉ. जीएस दाऊ , बीएमओ 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।