बीड़ बिलिंग पैराग्‍लाइ‍डर हादसा: दो लोगों की मौत का कसूरबार कौन, मजिस्ट्रेट जांच में होगा खुलासा #news4
March 9th, 2022 | Post by :- | 97 Views

धर्मशाला : जिलाधीश कांगड़ा निपुण जिंदल ने पैराग्लाइडर हादसे पर कड़ा संज्ञान लिया है। इस मामले में जिला प्रशासन ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए हैं। यह जांच सात दिन में पूरी होगी। वहीं दोनों मृतकों के स्वजनों को चार-चार लाख रुपये दिए जाएंगे। इस हादसे को लेकर जिलाधीश कांगड़ा डा. निपुण जिंदल व पुलिस अधीक्षक कांगड़ा डा. खुशहाल शर्मा ने बैठक की और जरूरी दिशा निर्देश जारी किए हैं। जिलाधीश कांगड़ा ने बताया मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं। एक सप्ताह में इसकी जांच रिपोर्ट आएगी। मृतकों के स्वजनों को चार चार लाख रुपये दिए जा रहे हैं। घटना दुखद है हादसे के कारणों का पता लगाया जा रहा है। इसके अलावा प्रशासन ने एक माह पहले पैराग्‍लाइडिंग एसोसिएशन के साथ एक बैठक की थी व जरूरी दिशा निर्देश दिए थे। इसकी भी समीक्षा की जाएगी कि एसोसिएशन ने इन निर्देशों पर कितना अमल किया।

टेंडम फ्लाइट के दौरान हुआ हादसा

कांगड़ा की बीड़ बिलिंग घाटी में मंगलवार दोपहर को यह हादसा हुआ। इसमें पैराग्लाइडिंग की टेंडम उड़ान के दौरान पैराग्लाइडर हादसे का शिकार हो गया। इस हादसे में दो लोगों की मौत हो गई व पैराग्लाइडर पायलट गंभीर रूप से घायल हो गया, उसे टांडा रेफर किया गया। बैजनाथ बीड़ बिलिंग में गाजियाबाद के पर्यटक आकाश अग्रवाल और राकेश कुमार पुत्र चतरू राम निवासी बीड़ की मौत हो गई। टेंडम उड़ान को उड़ा रहा पायलट 34 वर्षीय विकास कपूर निवासी बीड़ गंभीर रूप से घायल है।

इस तरह पेश आया हादसा

पायलट विकास और आकाश टेंडम उड़ान के लिए टेक आफ साइट बिलिंग से उड़ान भरने लगे। जबकि उन्हें रन करवाने के लिए वहां मौजूद पायलट राकेश कुमार ने मदद की। जैसे ही ग्लाइडर ने टेकआफ किया तो साथ ही राकेश ग्लाइडर से उलझ कर उसमें अटक गया। ऐसे में ग्लाइडर भी अनियंत्रित होने लगा। इस दौरान राकेश नीचे गिरकर गंभीर रूप से घायल हो गया। कुछ सेकेंड में ही ग्लाइडर भी आपस में उलझकर नीचे गर गया। इस कारण पायलट विकास और पर्यटक आकाश भी नीचे गिर गए। तीनों गंभीर हालत में बैजनाथ अस्पताल लाए गए, जहां आकाश और राकेश को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।