हिन्दू-मुसलमान के नाम पर नफरत फैला कर अपनी सत्ता से वास्ता रख रही है बीजेपी : राणा
February 29th, 2020 | Post by :- | 139 Views

व्यक्तिगत एजेंडे पर देश को हांकने की जिद्द से दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में सामाजिक असुरक्षा की भावना घर कर रही है। यह बात कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा ने सुजानपुर विधानसभा के चलोखर गांव में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कही है। राणा ने कहा कि धौंस-दबाव की राजनीति के दौर में देश में हिंदू-मुसलमान व प्रदेश में भाई-भाई को लड़ाने की राजनीति की मंशा से बीजेपी सिर्फ अपनी सत्ता को कायम रखने के मकसद से सियासत कर रही है। जो कि लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण राजनीतिक स्थिति है। राणा सुजानपुर की री ग्राम पंचायत के चलोखर में आरसीएम कंपनी के शोरूम के उद्घाटन के बाद जनसभा को संबोधित कर रहे थे। राणा ने कहा कि बीजेपी की राजनीति प्रतिशोध की राजनीति साबित हो रही है। बीजेपी देश हित में बात रखने वालों को अपना व्यक्तिगत दुश्मन मानकर सत्ता का दुरूपयोग कर रही है। आजाद भारत के इतिहास में आम पब्लिक के साथ पहली बार राजनीतिक लोगों को अंग्रेजी हुकुमत का दौर याद आने लगा है। जिसमें बात रखने तक की आजादी नहीं थी। ऐसे ही अब मोदी शासन की सत्ता में गौण हो चुकी बीजेपी को भी अपनी बात रखने की आजादी नहीं है। ऐसे में आम जनता व विपक्ष की बात सुनने का तो सवाल ही पैदा नहीं होता है। बीजेपी के जो नेता गोली-गाली की बोली बोल कर देश का सांप्रदायिक माहौल खराब कर रहे हैं उन पर तो कोई कार्रवाई नहीं हो रही है लेकिन जो नागरिक या नेता देशहित में अभिव्यक्ति की आजादी चाह रहा है। उस सच की आवाज को कुचलने के लिए नागरिकों और नेताओं पर देशद्रोह के मामले बनाए जा रहे हैं। सच बोलने वालों को बीजेपी में काबिले सजा मानने की मुहिम शुरू हो गई है और इस अताताई मुहिम के तहत हर आवाज कुचली जा रही है।
प्रदेश में बीजेपी के भीतर बैठी बीजेपी को रास नहीं आ रही जयराम की सरकार
आज देश में विपक्षी पार्टी के नेताओं व प्रबुद्ध नागरिकों को ही नहीं बल्कि बीजेपी में बैठे सच बोलने वाले नेताओं को भी विरोधी व व्यक्तिगत दुश्मन माना जा रहा है। यही कारण है कि प्रदेश में प्रचंड बहुमत से जीती सरकार अब केन्द्र में बैठी अपनी ही सरकार से यह नहीं पूछ पा रही है कि चुनावों में तो डबल विकास करवाने का जो वायदा जनता से किया गया था। उस वायदे के अनुरूप केन्द्र सरकार अब प्रदेश के विकास के लिए बजट मुहैया क्यों नही करवा पा रही है। कर्ज पर कर्जा लेने के लिए विवश प्रदेश सरकार केन्द्र के समक्ष अपनी बात रखने की हिम्मत व हिमाकत नहीं कर पा रही है। जिससे प्रदेश का विकास रुक कर रह गया है। प्रचंड बहुमत से बनी सत्ता में मुख्यमंत्री जयराम की सत्ता को बीजेपी के भीतर बैठी बीजेपी हजम नहीं कर पा रही है और आए दिन अपनी ही सरकार की सांसें बंद करने की साजिशें अब प्रदेश में किसी से छुपी नहीं हैं। बीजेपी की सत्ता की यह स्थिति देश और प्रदेश दोनों के लिए खतरनाक है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।