बंजार में हिमाचल प्रदेश मनरेगा एवं निर्माण कामगार संगठन का खंड स्तरीय सम्मेलन आयोजित। #news4
September 25th, 2022 | Post by :- | 164 Views

तीर्थन घाटी गुशैनी बंजार (परस राम भारती)- हिमाचल प्रदेश की करीब 80 फीसदी आबादी गाँवों में रहती है। दूर दराज क्षेत्र के ग्रामीण युवाओं का पलायन रोकने और उन्हें गाँव में ही रोजगार मुहैया करवाने के लिए केन्द्र और राज्य सरकार की ओर से विभिन्न योजनाएं एवम कानून बनाए गए है। लेकिन दुर्भाग्य है कि आज तक भी यह कानून प्रभावी तरीके से लागू नहीं हो पा रहे है। वर्ष 2005 में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना बनी जिसे अब मनरेगा स्कीम के नाम से जाना जाता है। यह कानून एक वर्ष में 100 दिन के रोजगार की गारंटी देता है लेकिन सरकारी तन्त्र के उदासीन रवैए और लोगों में जागरूकता की कमी के कारण इस कानून के तहत मिलने वाले लाभ आज तक भी नहीं मिल रहे हैं।

कोरोना काल के दौरान कई लोगों के रोजगार छिन गए जिस कारण अब ग्रामीण इलाकों में मनरेगा के तहत काम करने की मांग बढ़ रही है। मनरेगा कानून के तहत ग्रामीण कामगारों को मिलने वाले लाभ और उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए आज उपमंडल बंजार के वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल भवन हॉल में हिमाचल ग्रामीण कामगार संगठन के तत्वाधान से एक सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन में हिमाचल प्रदेश ग्रामीण कामगार संगठन के प्रदेश अध्यक्ष संतराम ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की है।

इस एक दिवसीय कार्यक्रम में हिमाचल ग्रामीण मनरेगा एवं निर्माण कामगार संगठन के प्रदेशाध्यक्ष संतराम और उपाध्याक्ष अजीत राठौर की उपस्थिति में बंजार ब्लाक कार्यकरिणी का नए सिरे से गठन किया गया जिसमें महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देते हुए एक बार पुनः सर्वसमती से भावना चौहान अध्यक्ष और चंद्रा देवी को महासचिव की जिमेवारी सौंपी गई है। इसके अलावा कमला देवी को उपाध्यक्ष, खेमलता नेगी को सचिव, भीमा देवी को सहसचिव और संतोषी शर्मा को कोषाध्यक्ष चुना गया है।

इस एक दिवसीय सम्मेलन में बंजार खण्ड की विभिन्न ग्राम पंचायतों से आई महिलाओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। इस कार्यक्रम में हिमाचल ग्रामीण कामगार संगठन खंड बंजार के पदाधिकारी संयोजक अजीत राठौर, कोषाध्यक्ष शोभा राम, महासचिव पूर्ण चंद, सलाहकार दौलत भारती और अन्य सदस्यगण एवं पदाधिकरी विशेष रुप से उपस्थित रहे।

संगठन के पदाधिकारियों ने उपस्थित महिलाओं को मनरेगा कानून और इसके तहत श्रमिक कल्याण बोर्ड से मिलने वाले लाभ और अन्य सुविधाओं के बारे में विस्तृत से जानकारी दी है। महिलाओं को प्रदेश श्रमिक कल्याण बोर्ड में पंजीकरण की प्रक्रिया भी समझाई गई और विभिन योजनाओं का लाभ उठाने के लिए प्रेरित किया है।

कार्यक्रम में उपस्थित महिलाओं के जनसमुह को मनरेगा स्कीम की विस्तृत जानकारी के अलावा मजदूरों को आने वाली समस्याएं और इनका समाधान, संगठन विस्तार और महिला सशक्तिकरण सहित अन्य कई मुद्दों पर चर्चा परिचर्चा हुई। मनरेगा योजना के बारे मे विस्तृत जानकारी पाकर उपस्थिति महिलाओं में काफी जोश और उत्साह देखने को मिला। सभी महिलाओं ने प्रण किया है कि अपने गांव समाज में इस योजना का खूब प्रचार प्रसार करेगी ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले हर मनरेगा मजदूर और पात्र लाभार्थियों को इसका फायदा मिल सके।

हिमाचल ग्रामीण कामगार संगठन के प्रदेशाध्यक्ष संतराम ने बताया कि इस सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य जन जन तक मनरेगा कानून की जानकारी पहुंचाना, पात्र लाभार्थियों को इसके तहत मिलने वाली सुविधाओं और उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करना और ग्रामीण क्षेत्रों के कामगारों को संगठित करके उनकी समस्याओं का समाधान करना है। इन्होंने कहा कि वर्ष 2009 में हिमाचल प्रदेश में श्रमिक कल्याण बोर्ड का गठन हुआ है लेकिन ताजुब है कि आज 12 वर्ष बीत जाने के बाद भी इस बोर्ड से मिलने वाली सुविधाओं का लाभ पात्र लाभार्थियों तक नहीं पहुंच पा रहा है।

गौरतलव है कि श्रमिक कल्याण बोर्ड द्वारा कामगारों को विभिन्न योजनाओं के तहत अनेकों सुविधाएं प्रदान की जाती है जिसमें जीवन बीमा, स्वास्थ्य, शिक्षा, आवास, पेंशन जैसी योजनाएं प्रमुख है। इसके अलावा कामगारों के बच्चों की शादी के लिए आर्थिक सहायता और प्रसूता महिलाओं के लिए छह माह तक का वेतन घर बैठे दिए जाने का प्रावधान है।

हिमाचल ग्रामीण कामगार संगठन विकास खण्ड बंजार के संयोजक अजीत राठौर ने बताया कि इनका संगठन एक गैरराजनीतिक और सामाजिक संगठन है जो प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में कार्य कर रहे कामगारों को संगठित करने का कार्य कर रहा है। यह लम्बे समय से दूर दराज पंचायतों में जाकर महिलाओं, श्रमिकों और पिछड़ों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक कर रहे हैं।

बंजार ब्लॉक की अध्यक्षा भावना चौहान ने बताया कि आज बंजार क्षेत्र की सैंकड़ों महिलाएं श्रमिक कल्याण बोर्ड की सदस्य बन कर यहां से मिलने वाले लाभ के लिए पात्र बन चुकी है जिनको पासबुकें भी मिल गई है।

प्रदेशाध्यक्ष संतराम ने बताया कि ब्लॉक की हर ग्राम पंचायत स्तर तक संगठन का विस्तार किया जा रहा है और शीघ्र ही अगले माह तक बंजार में एक प्रदेश सतरीय महासमेलन का आयोजन किया जाएगा। इन्होंने इस कार्यक्रम में उपस्थिति महिलाओं और अन्य सदस्यों का इस सम्मेलन में भाग लेने के लिए आभार जताया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।