अफगानी और भारतीय छात्रों के बीच खूनी झड़प : APG यूनिवर्सिटी
September 4th, 2019 | Post by :- | 122 Views

हिमाचल की राजधानी शिमला स्थित एपीजी यूनिवर्सिटी (APG University) में अफगानी (Afgani) और भारतीय छात्रों (Indian student) के बीच जमकर झड़प (Bloody Clash) हुई थी. अफगानी छात्रों के साथ-साथ भारतीय छात्रों को भी काफी चोटें आईं. लेकिन एपीजी यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार ने ही पुलिस को भारतीय छात्रों के नाम ही पुलिस को दिए थे. रजिष्ट्रार (Registrar) ने पुलिस में दी शिकायत में एक भी अफगानी छात्र का नाम नहीं शामिल किया है. आप वीडियो देखेंगे तो आपको अफगानी छात्र भारतीय छात्रों से मारपीट करते हुए साफ देखे जा सकते हैं. रजिष्ट्रार ने पीयूष, फरहान, मुस्कान मलिक, गौरव दुबे, करन महतो, शशांक और सरनदीप के नाम पुलिस को दिए, जबकि जानकारी यह भी मिली है कि इनमें से शशांक और सरनदीप के नाम फर्जी हैं. यही वजह है कि पुलिस ने 5 छात्रों के नाम पर ही केस दर्ज किया है. इससे इतर NSUI के प्रदेश महासचिव प्रतीक शर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा कि शुरूआत में पुलिस ने घायल छात्रों का मेडिकल करवाने तक से इनकार कर दिया था. छात्रों को गंभीर चोटे आई इसलिए पुलिस को मजबूरी में मेडिकल करवाना पड़ा. प्रतीक शर्मा ने कहा कि घायलों में से पीयूष नाम के छात्र को गले में बहुत ज्यादा चोट लगी थी. पीयूष को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी. कि डॉक्टरों को पीयूष को सांस की नाली भी लगानी पड़ी है. उन्होंने बताया कि छात्र की मेडिकल रिपोर्ट में यह सब दर्ज है. दो दिन तक छात्र अस्पताल में रहा लेकिन पुलिस कह रही है कि चोट ज्यादा गभीर नहीं है. पुलिस ने माना कि रजिस्ट्रार की ओर से ही फर्जी नाम दिए गए थे. अफगानी छात्रों के खिलाफ भारतीय छात्रों ने दी शिकायत
खूनी झड़प पुलिस ने माना कि रजिस्ट्रार की ओर से ही फर्जी नाम दिए गए थे.भारतीय छात्रों ने भी अफगानी छात्रों के खिलाफ शिकायत दी है. अब अफगानी छात्रों की संलिप्तता की भी जांच की जा रही है.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।