सफेद और पीले पुखराज से अलग होता है ब्लू टोपाज़, रोमांस के लिए है माना जाता है शुभ #news4
February 5th, 2022 | Post by :- | 87 Views

पुखराज को अंग्रेजी में टोपाज़ कहते हैं। पुखराज को गुरु ग्रह का रत्न माना जाता है। इसे पहनने गुरु ग्रह बलवान होता है, परंतु यह भी जान लेना चाहिए कि यह रत्न किसे पहनना चाहिए और किसे नहीं अन्यथा यह नुकसान दे सकता है। पुखराज यूं तो पीला होता है परंतु यह सफेद और नीले रंग का भी होता है। नीला अर्थात ब्लू पुखराज रोमांस के लिए शुभ माना जाता है। आओ जानते हैं नीले पुखराज के लाभ।

पांच रंगों में पाया जाता है पुखराज ( ( Topaz is found in five colors ) : पुखराज फ्रलोरिन एलुमिनियम सिलिकेट से बनता है और पीले, पीला-भूरा, फ्रलैक्स, भूरा, हरा, नीला हल्का नीला, लाल, गुलाबी आदि रंग में मिलता है लेकिन कभी-कभी इसका कोई रंग नहीं होता है। खासकर यह हल्दी रंग में, केसरिया, नीबू के छिलके के रंग का, स्वर्ण के रंग का तथा सफेद-पीली झांई वाला पाया जाता है।
पुखराज की पहचान ( identification of topaz ) : कहते हैं कि असली पुखराज पारदर्शी होता है। चौबीस घंटे तक दूध में रखने पर यदि क्षीणता एवं फीकापन न आए तो असली होता है। चिकना, चमकदार, पानीदार, पारदर्शी एवं व्यवस्थित किनारे वाला पुखराज दोषरहित होता है।
कौन न पहनें पुखराज ( Who should not wear Pukhraj ) : वृषभ, मिथुन, कन्या, तुला, मकर, कुंभ राशि व लग्न वालों को इस रत्न से बचना चाहिए अथवा कुंडली में गुरु की स्थिति देखकर पहनना चाहिए। पुखराज के साथ पन्ना व हीरा न पहनें; हो सके तो अकेला ही पहनें। लाल किताब के अनुसार धनु लग्न में यदि गुरु लग्न में है तो पुखराज या सोना केवल गले में ही धारण करना चाहिए, हाथों में नहीं। यदि हाथों में पहनेंगे तो ये ग्रह कुंडली के तीसरे घर में स्थापित हो जाएगा। यदि गुरु चौथे, सातवें या दसवें भाव में है तो पुखराज को धारण करने के लिए लाल किताब के विशेषज्ञ से सलाह लें। गुरु ग्रह के निर्बल होने पर पुखराज धारण करने से उसके शक्तिशाली होने से ऋणात्मक प्रभाव समाप्त हो जाता है।
कौन पहन सकता है पुखराज ( Who can wear topaz ) : बृहस्पति या गुरु की राशि धनु और मीन राशि वालों के लिए पुखराज पहनने की सलाह दी जाती है। मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक, धनु और मीन राशि वाले लोग यदि पुखराज पहनते हैं तो संतान, विद्या, धन और यश में सफलता मिलती है। गुरुवार को जन्मे तथा जिनकी कुंडली में कर्क राशि पर सूर्य-चंद्र-गुरु हो अवश्य पहनें।
ब्लू टोपाज के फायदे ( Benefits of Blue Topaz ) : यह एक खूबसूरत और कठोर पत्थर कई आकर्षक रंगों में मिलता है। पुखराज का रंग हल्का नीला होता है, लेकिन कहीं-कहीं पर ये गाढ़े नीले रंग में भी पाया जाता है। नीला पुखराज बहुत अधिक प्रसिद्ध है। नीला सिल्वर पुखराज चमकदार, पारदर्शी रत्न होता है। नीला पुखराज धारण करने से लोगों का क्रोध कम होता है और दयालुता बढ़ती है। इसे प्यार और स्नेह का चिन्ह माना जाता है। यह रत्न आकर्षण शक्ति बढ़ाता है। उदास और बुझे दिलों में प्यार की इच्छा जगाता है। यह जातक मे आध्यात्मिक शक्ति, शांति या विद्या को भी बढ़ाता है। मान्यता है कि टोपाज पहनने से सच्चा प्यार मिलता है और प्यार बढ़ता है। प्रेम संबंधों के लिए टोपाज रत्न बहुत शुभ माना जाता है। माना जाता है कि टोपाज रत्न धारण करने से प्रेम प्राप्त करने या विवाह में आ रही बाधाएं दूर होती हैं।
पुखराज धारण करने के लाभ ( Benefits of wearing Pukhraj) :
– यह जिस्म में गर्मी और ताकत को बढ़ाता है। यह खून की खराबी को दूर करता है और इसको पहनने से कोढ़ तक ठीक हो जाती है। यह जहर को भी काटने की क्षमता रखता है और यह भी कह जाता है कि इससे पहनने से बवासीर ठीक हो जाता है। यह वसा एवं ग्रंथियों से संबंध रखता है। अतः यह गला रोग, सीने का दर्द, श्वास रोग, अस्थमा, पागलपन, इंसोम्रिया, वायु विकार, टीबी, हृदय रोग में धारण करने से लाभप्रद होता है। इससे नींद अच्छी आती है और शरीर की थकावट दूर होती है। इससे आर्थिक संपन्नता बढ़ती है। यह बहते रक्त को रोकने वाला व भूख बढ़ाने वाला रत्न है। इसे धारण करने से दुख, चिंता, तनाव, डर आदि मन से दूर होते हैं।
– यह दिमागी ताकत बढ़ाकर इच्छाशक्ति को तेज करता है। शिक्षा, बुद्धि और व्यापार में यह लाभदायक है। साथ ही यदि नीला पुखराज पहन रखा है तो यह रोमांस की भावना को बढ़ता है। विवाह योग्य कन्या पुखराज धारण करें तो जल्दी विवाह हो जाता है। पुखराज धारण करने से प्रसिद्धि मिलती है। प्रसिद्धि से मान-सम्मान बढ़ता है। शिक्षा और करियर में यह लाभदायक है। भाग्यवृद्धि, सुख-सौभाग्य, विकास-उन्नति, समृद्धि, पुत्र कामना, विवाह एवं आध्यात्मिक समृद्धि हेतु पुखराज धारण करना चाहिए। गुरु ग्रह जीवनदाता है। अचानक से होने वाली मृत्यु के लिए ये पहले ही आगाह कर देता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।