रोजाना 35 रुपये बचाकर बेटी के लिए जोड़ सकते हैं 5 लाख, जानें कौनसी है ये सरकारी योजना
January 10th, 2020 | Post by :- | 206 Views

अगर आप भी अपनी बेटी की पढ़ाई, करियर और शादी के लिए अभी से निवेश प्लान कर रहे हैं, तो सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) बेहतर विकल्प है। इस योजना के तहत सालाना 12,000 रुपये जमा कर करीब 5 लाख रुपये जोड़ सकते हैं। यानी करीब 35 रुपये रोजाना बचाकर आप अपनी बेटी के लिए पांच लाख रुपये का फंड तैयार कर सकते हैं।

10 साल से कम उम्र की बेटी के लिए खोल सकते हैं अकाउंट
सुकन्या समृद्धि योजना के तहत बैंक और पोस्ट ऑफिस में जाकर कोई भी व्यक्ति या कानूनी अभिभावक 10 साल से कम उम्र की बेटियों के लिए यह अकाउंट खुलवा सकता है। 1 जनवरी 2019 से इस योजना में 8.5 फीसदी सालाना चक्रवृद्धि ब्याज मिल रहा है। इस योजना में निवेश करने पर 80सी के तहत टैक्स छूट का भी फायदा उठा सकते हैं। स्कीम पूरी होने पर पूरा फंड उस लड़की को मिलेगा, जिसके नाम पर ये खाता खुलवाया गया है।

सिर्फ 250 रुपये से कर सकते हैं शुरू
सुकन्या समृद्धि योजना में न्यूनतम 250 रुपये सालाना जमा करना होगा। पहले यह 1000 रुपये सालाना निवेश की अनिवार्यता थी। योजना के तहत अधिकतम 1.50 लाख रुपये सालाना जमा किया जा सकता है।

21 साल बाद मिलेगा पैसा
फाइनेंशियल प्लानर और टैक्स एक्सपर्ट एमकेजी कंसल्टेंसी के हेड एम के गांधी ने लाइव हिन्दुस्तान को बताया कि सुकन्या समृद्धि योजना में खाता खुलने के दिन से 14 साल पूरा होने तक निवेश करना होता है लेकिन यह खाता 21 साल पूरा होने पर मेच्योर होता है। खाते के 14 साल पूरा होने के बाद से 21 साल तक खाते में उस समय के तय ब्याज दर के हिसाब से पैसा जुड़ता रहेगा। उन्होंने बताया कि सुकन्या समृद्धि योजना में 8.4 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा है।

1,000 जमा करने पर मिलेंगे करीब 5 लाख रुपये
गांधी ने बताया कि सुकन्या समृद्धि योजना में सालाना 20,000 रुपये जमा करने पर 14 साल तक सालाना 2,80,000 रुपये जमा होंगे और 21 साल बाद मेच्योर होने पर 9,36,429 लाख मिलेंगे यानी करीब 10 लाख का फंड बन जाएगा। वहीं रोजाना के 35 रुपये यानी महीने में करीब 1,000 रुपये जो सालाना 12,000 रुपये हो जाएंगे, जमा करने पर आपको मैच्योरिटी पर करीब 5 लाख रुपये मिल जाएंगे।

सुकन्या समृद्धि योजना
मासिक किश्त (रुपये में)      14 साल में इन्वेस्टमेंट अमाउंट (रुपये में)      21 साल बाद मेच्योरिटी पर मिलेगा (रुपये में)
1,000                                                  1,68,000                                        5,42,122
2,000                                                  3,36,000                                      10,84,243
3,000                                                  5,04,000                                      16,26,365
4,000                                                  6,72,000                                      21,68,486
5,000                                                  8,40,000                                      27,10,608
6,000                                                 10,08,000                                     32,52,730
7,000                                                  11,76,000                                     37,94,851
8,000                                                  13,44,000                                     43,36,973
9,000                                                  15,12,000                                    48,79,095
10,000                                                16,80,000                                     54,21,216
12,500                                                 21,00,000                                    67,76,520

मिल सकते हैं 50 लाख रुपये
सुकन्या समृद्धि योजना के तहत अगर आप हर साल 1 लाख रुपये निवेश करते हैं तो आपको कुल 14 लाख रुपये निवेश करना होगा। इस खाते पर सरकार अभी 8.4 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से ब्याज दे रही है। ऐसे में 21 साल बाद जब खाता मेच्योर होगा तो आपका निवेश करीब 46 लाख रुपये के आस-पास हो जाएगा। सालाना 1.50 लाख जमा करने पर 70,23,219 रुपये मिलेंगे।

बेटी के 18 साल होने पर निकाल सकते हैं पैसा
अगर बेटी की उम्र 18 साल हो जाती है और उसे पढ़ाई या उसकी शादी के लिए पैसों की जरूरत है तो आप जमा राशि की 50 फीसदी तक अमाउंट निकाल सकते हैं।

यहां खोल सकते हैं अकाउंट 
यह खाता आप अपने किसी भी नजदीकी पोस्ट ऑफिस में खुलवा सकते हैं। यह खाता किसी प्राइवेट या पब्लिक सेक्टर बैंक में भी खुलवाया जा सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।