नाहन में दूध, दहीं व पनीर के 21 से अधिक सैंपल फेल, 20 के खिलाफ मामला दर्ज #news4
July 2nd, 2022 | Post by :- | 107 Views

नाहन : हिमाचल प्रदेश के लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ सिरमौर जिला प्रशासन ने इन दिनों कड़ी मुहिम चला रखी है। इसके तहत जिला खाद्य सुरक्षा विभाग की ओर से विभिन्न दुकानदारों के सैंपल भरे जा रहे हैं।

गत माह लिए गए दूध, दही व पनीर के सैंपल की रिपोर्ट भी आई है, जिसमें 12 से अधिक सैंपल फेल हुए हैं। पिछले दो महीनों में खाद्य सुरक्षा विभाग ने सैंपल फेल होने पर 20 लोगों के खिलाफ केस फाइल किए हैं।

जिला सिरमौर मुख्यालय नाहन में हरियाणा के नारायणगढ़, सडोरा व बिलासपुर से भारी मात्रा में दूध बेचने कई व्यापारी आते हैं। वहीं पांवटा साहिब में यमुनानगर, उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड से दूध व पनीर बेचने आते हैं, जिनके दूध में मिलावट होने की शिकायतें कई बार पहले भी विभाग को मिल चुकी हैं।

आज भरे आठ सैंपल

शनिवार को सिरमौर जिला मुख्यालय नाहन में फूड एंड सेफ्टी इंस्पेक्टर सुनील शर्मा के नेतृत्व में खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने नाहन में करीब 26 दुकानों में दबिश दी। यहां से आठ सैंपल भरे गए। इसमें तीन सैंपल दूध, तीन सैंपल दही व दो सैंपल पनीर के लिए गए हैं। इन्हें कंडाघाट लैब भिजवा दिया गया है। जल्द ही रिपोर्ट आने के बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी।

बता दें कि उपायुक्त सिरमौर के पास जिला सिरमौर के नाहन, पांवटा साहिब राजगढ़ व कालाअंब आदि क्षेत्रों से दूध, दही व पनीर में मिलावट की कई शिकायतें पहुंची थीं, जिसके बाद उपायुक्त सिरमौर ने खाद्य सुरक्षा विभाग को दुकानदारों के यहां छापेमारी कर सैंपल भरने के निर्देश दिए थे। इसी कड़ी में शनिवार को नाहन शहर में कई दुकानों व दूध की डेयरी में विभाग की टीम ने छापेमारी कर दूध, दही व पनीर के सैंपल एकत्रित कर उन्हें जांच के लिए कंडाघाट लैब में भेज दिया है।

क्या कहते हैं अधिकारी

जिला सिरमौर खाद्य सुरक्षा विभाग के आयुक्त डा. अतुल कायस्थ ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि शनिवार को विभाग की टीम ने आठ सैंपल भरे हैं। गत माह लिए गए सैंपल फेल होने पर 20 लोगों के खिलाफ केस फाइल किए गए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।