जमाती के संपर्क में आए संक्रमित युवक पर हत्या के प्रयास का केस
April 15th, 2020 | Post by :- | 205 Views

ऊना में तब्लीगी जमात के संपर्क रखने के बाद कोरोना पॉज़िटिव पाए गए ऊना के तीसरे युवक पर भी सेक्शन 307 के तहत मामला दर्ज किया गया है। करीब पंद्रह लोगों से उसका संपर्क हुआ था। विभाग अब सबके सैंपल लेने की तैयारी कर रहा है। दोपहर के वक्त स्वास्थ्य महकमे की टीम मौके पर रवाना हो गई। कोरोेना संक्रमित लोगों के संपर्क में आए सात लोगों के सैंपल की रिपोर्ट आने का इंतजार है।

तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों के संपर्क में आया ऊना का एक युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया। प्रदेश में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 34 हो गई है। इनमें ऊना जिले में 15 लोग पॉजिटिव है। ऊना के कुठेड़ा खैरला गांव के पॉजिटिव पाए व्यक्ति का दोस्त पहले ही पॉजिटिव पाया गया है। मंगलवार को प्रदेश में 98 सैंपल की जांच की गई, जिसमें से 97 नेगेटिव पाए गए।

60 सैंपल की जांच डॉ. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल टांडा, 20 की सीआरआइ कसौली और 18 की आइजीएमसी शिमला में जांच की गई। प्रदेश में 5822 लोगों को निगरानी में रखा गया है और 3765 लोगों ने आवश्यक 28 दिन की निगरानी को पूर्ण कर लिया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव आरडी धीमान ने बताया कि ऊना का युवक जमातियों के संपर्क में था। उसके घर वालों के भी सैंपल लिए गए थे, जो नेगेटिव पाए गए हैं।

पैदल जम्मू कश्मीर जा रहे लोगों को रोका

जम्मू कश्मीर के कुलगांव के दस लोग जो कटान का काम कर रहे थे लेकिन राशन व जरूरी सुविधा न होने के कारण धमेटा से पैदल ही घर जा रहे थे, जिन्हें पुलिस ने रोक कर पूरी जानकारी ली। पुलिस ने इन्हें दोबारा ठेकेदार के पास भेज दिया। धमेटा के उपप्रधान रविन्द्र मेहरा ने इनसे पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि राशन न होने के कारण वे पैदल घर जा रहे थे। उप प्रधान ने एसडीएम को सूचित किया। प्रशासन ने इन लोगों को ठेकदार के पास वापस भेज दिया।

सचिव और एचओडी आएंगे कार्यालय

प्रदेश सचिवालय के सचिवों सहित विभाग अध्यक्षों को कार्यालय आने का आदेश दिया गया है। उन्हें 16 अप्रैल से कार्यालयों में आना होगा। साथ ही बहुत कम स्टाफ को बुलाने को कहा गया है। जिन अधिकारियों को सरकारी गाड़ियां दी गई हैं उन्हें कार्यालय आना ही होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।