Chamba News: तंबाकू उत्पादों पर कर बढ़ाने की मांग उठाई, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को भेजा ज्ञापन #news4
December 22nd, 2022 | Post by :- | 46 Views

चंबा : नाडा इंडिया फाउंडेशन के सदस्यों ने केंद्र सरकार से तंबाकू उत्पादों पर कर बढ़ाने की सिफारिश की है। अपनी इस मांग को लेकर फाउंडेशन के सदस्यों ने वीरवार को उपायुक्त चंबा के माध्यम से वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को ज्ञापन सौंपा है। फाउंडेशन सदस्य तपिश, राकेश, रतन व संदीप सहित अन्य का कहना है कि नाडा इंडिया फाउंडेशन हिमाचल प्रदेश एक युवा-संचालित संगठन है, जो समुदाय-आधारित पहल के नेटवर्क को बढ़ावा देने, सशक्त नेतृत्व विकसित करने और वंचित और कमजोर आबादी, विशेष रूप से किशोरों और युवाओं के बीच स्वस्थ विकल्प विकसित करने पर ध्यान केंद्रित करता है।

तंबाकू का उपयोग धीमी गति से चलने वाली महामारी है

नाडा यंग इंडिया नेटवर्क (एनवाइआइएन) के माध्यम से प्रदेश में तंबाकू के प्रभाव को कम करने के लिए, हम युवाओं के बीच स्वास्थ्य साक्षरता की खाई को पाटने का प्रयास करते हैं। तंबाकू का उपयोग जो एक धीमी गति से चलने वाली महामारी है, हर साल 13 लाख भारतीयों के जीवन का दावा करती है। इसके अलावा, वर्तमान जीएसटी दर, मुआवजा उपकर, तंबाकू उत्पादों पर राष्ट्रीय आपदा आकस्मिक शुल्क और केंद्रीय उत्पाद शुल्क को जोड़ने पर, कुल कर का बोझ (अंतिम कर सहित खुदरा मुल्य के प्रतिशत के रूप में कर) सिगरेट के लिए केवल 52.7 प्रतिशत है, 22 प्रतिशत बीड़ी के लिए और धुंआ रहित तंबाकू के लिए 63.8 प्रतिशत है।

भारत में सभी तंबाकू उत्पादों पर मौजूदा कर का बोझ विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की ओर से सभी तंबाकू उत्पादों के लिए खुदरा मुल्य के कम से कम 75 प्रतिशत के कर भार की सिफारिश की तुलना में बहुत कम है। सभी तंबाकू उत्पादों और विशेष रूप से बीड़ी पर कर में वृद्धि करना निश्चित रूप से आवश्यक है, क्योंकि वे सबसे अधिक उपभोग किए जाने वाले और सबसे सस्ते प्रकार के तंबाकू उत्पाद हैं। यह न केवल उनकी सामर्थ्य और खपत को कम करेगा, बल्कि तंबाकू से होने वाले बढ़ते स्वास्थ्य और घातक नुकसान को भी सीमित करेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।