चौपाल का सुरेश कुमार करेगा राष्ट्रपति भवन के बागीचे को तैयार #news4
November 17th, 2022 | Post by :- | 60 Views

नेरवा : हिमाचल प्रदेश में शिमला के छराबड़ा स्थित राष्ट्रपति निवास रिट्रीट में देश के राष्ट्रपति के लिए पहला सेब का बागीचा तैयार किया जा रहा है। सरकार ने इस बगीचे को तैयार करने का कार्य रोहड़ू क्षेत्र से संबंध रखने वाले गांव बराल,डाकघर झडग निवासी प्रगतिशील किसान सुरेश कुमार (डिंपल पांजटा) को सौंपा गया है। डिंपल पांजटा इस समय यशवंत सिंह परमार वानिकी एवं बागवानी विश्वविद्यालय नौणी ( सोलन ) में बतौर बोर्ड आफ़ मैनेजमेंट के सदस्य के रूप में सेवाएं दे रहे हैं। डिंपल पांजटा पिछले पंद्रह सालों से बागवानी के क्षेत्र में समाजसेवा करते हुए विभिन क्षेत्रों में जाकर बागवानों को निःशुल्क प्रशिक्षित कर रहे है।

काश्मीर और उत्तराखंड में भी बागवानों क बागवानी के टिप्स दे चुके हैं डिंपल

वह अब तक हिमाचल प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों के अलावा काश्मीर और उत्तराखंड में भी बागवानों को आधुनिक, जैविक एवं प्राकृतिक बागवानी के टिप्स दे चुके है। उनके इस कार्य के लिए उन्हें भारत सरकार से एग्रिवीजन के पांचवें संस्करण में राष्ट्रिय अवार्ड भी मिल चुका है । अभी हाल ही में उन्हें उड़ीसा से भी सेब बागवानी का शिविर लगाने के लिए आमंत्रित किया गया है,जिसके लिए वह भुवनेश्वर के लिए रवाना हो चुके है । उड़ीसा में भी सेब का पहला बागीचा लगाए जाने पर प्रयोग किया जा रहा है । पांजटा वहां पर सेब की बागवानी से जुड़ने के इच्छुक बागवानों को प्रशिक्षण देंगे । एक निजी स्कूल के कार्यक्रम में शिरकत करने नेरवा आये डिंपल पांजटा ने पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए बताया कि आज़ादी के बाद पहली बार देश के राष्ट्रपति के लिए सेब का बागीचा तैयार करने का कार्य शुरू कर दिया है।

छह साल में हैं फल देने की उम्मीद

छह साल में फल देने के लिए तैयार होने की उम्मीद है । उन्होंने कहा कि छराबड़ा काफी अधिक ऊंचाई पर स्थित है तथा यहां का मौसम काफी ठंडा रहता है,जिस वजह से यहां पर पौधे का विकास काफी धीमी गति से होने की संभावना है,परन्तु फिर भी इस बगीचे में छह साल में फल लगने की उम्मीद की जा सकती है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।