सुशासन की शानदार नजीर होगी मुख्यमंत्री हेल्पलाइन ‘हिम सेवा
July 17th, 2019 | Post by :- | 254 Views

मुख्यमंत्री हेल्पलाइन ‘हिम सेवा’ सुशासन की शानदार नजीर साबित होगी। यह हिमाचल सरकार की अंत्योदय को समर्पित योजना है, जिससे लोगों की समस्याओं का घर-द्वार पर समाधान तय होने के साथ ही शासन व्यवस्था में सुधार के लिए जरूरी फीडबैक मिलेगी। मंडलीय आयुक्त मंडी विकास लाबरू ने बुधवार को मंडी मंडलीय क्षेत्र के विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों को मुख्यमंत्री हेल्पलाइन ‘हिम सेवा’ की कार्यप्रणाली समझाने के लिए आयोजित कार्यशाला में यह विचार व्यक्त किए।
उन्होंने कहा मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर का लोगों की शिकयतों के तत्काल एवं स्थाई समाधान पर विशेष ध्यान है। उनका जोर है कि लोगों को अपने कार्य के लिए सरकारी कार्यालयों के चक्कर न काटने पड़ें। जनशिकायतों का घर-द्वार पर समयबद्ध समाधान हो और लोगों को यह भी पता रहे की उनके शिकायत पर किस स्तर पर क्या कार्यवाही हो रही है। लोग व्यवस्था का हिस्सा बनें।

शिकायत, सूचना और सुझाव की त्रिवेणी का संगम

अंत्योदय को समर्पित मुख्यमंत्री हेल्पलाइन ‘हिम सेवा’ शिकायत, सूचना और सुझाव की त्रिवेणी का संगम होगी। पहला, इसके जरिए लोग अपनी शिकायत दर्ज करवा पाएंगे, जिसका निर्धारित समयसीमा में समाधान तय होगा। दूसरा, सभी सरकारी योजनाओं की सूचना इससे मिल सकेगी, साथ ही लाभार्थी आवेदन भी कर पाएंगे। तीसरा, इससे शासन व्यवस्था में आवश्यक सुधार के लिए जनता से सुझाव व फीडबैक मिल सकेगी।

शिमला में कॉल सेंटर स्थापित
सूचना प्रौद्योगिक विभाग के निदेशक रोहन चंद ठाकुर ने हिम सेवा प्रणाली पर प्रकाश डालते हुए बताया सीएम हेल्पलाइन प्रदेश में वर्तमान में जन शिकायत निवारण की स्थापित व्यवस्थाओं की जगह नहीं लेगी, बल्कि उन सभी को एक धारा में जोड़ेने का काम करेगी। जल्द ही मुख्यमंत्री चार अंकों का एक हेल्पलाईन नंबर जारी करेंगे, जिस पर कॉल कर लोग अपनी शिकायत दर्ज करवा पाएंगे। लोगों की कॉल सुनने के लिए शिमला में पूरी व्यवस्था के साथ एक कॉल सेंटर स्थापित किया गया है, जिसमें एक समय में एकसाथ 60 कॉल सुनीं जा सकेंगी।

एसएमएस से मिलेगी शिकायत दर्ज होने की जानकारी
शिकायतकर्ता के संतोष जताने पर ही माना जाएगा समाधान

दर्ज शिकायत तुरंत संबंधित विभाग व अधिकारी को भेजी जाएगी, जिसका तय समय में समाधन करना होगा। शिकायतकर्ता और संबंधित अधिकारी को एसएमएस के जरिए पंजीकरण की जानकारी देने के साथ एक-दूसरे का मोबाईल नंबर भी साझा किया जाएगा। अधिकारी पोर्टल पर शिकायत देख पाएंगे तथा समाधान के बाद पोर्टल पर निपटारा दर्ज करेंगे। इसके उपरांत कॉल सेंटर से निवारण को लेकर संतुष्टि जाननेे लिए शिकायतकर्ता को कॉल की जाएगी। उनके संतेाष जताने पर ही शिकायत समाप्त होगी, अन्यथा अगले स्तर के अधिकारी को कार्यवाही के लिए भेज दी जाएगी।

सुबह 7 से रात 10 बजे तक काम करेगी हेल्पलाइन

रोहन चंद ठाकुर ने कहा मुख्यमंत्री हेल्पलाइन के तहत 4 स्तरों पर शिकायत के मामलों पर कार्रवाई की जाएगी, जिसमें खंड स्तर, जिला स्तर, विभागाध्यक्ष स्तर तथा राज्य स्तर शामिल हैं। हेल्पलाइन की निगरानी मुख्य सचिव तथा मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा की जाएगी। यह हेल्पलाइन प्रातः 7 बजे से रात्रि 10 बजे तक कार्यशील रहेगी। निर्धारित समय में समस्या का निदान न होने पर इसे अगले स्तर पर कार्यवाही के लिए भेज दिया जाएगा।
इस मौके उन्होंने हेल्पलाइन को लेकर विभिन्न अधिकारियों के सवालों का उत्तर देकर जिज्ञासाओं का समाधान किया।
कार्यशाला में सूचना प्रौद्योगिक विभाग के सहायक निदेशक अनिल सेमवाल ने ‘हिम सेवा’ की कार्यप्रणाली की विस्तार से जानकारी दी।
मुख्यमंत्री के आईटी मैनेजर किशोर शर्मा ने कहा हिम सेवा मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की जन हितैषी सोच का प्रतिफल है। उन्होंने सभी अधिकारियों से मुख्यमंत्री के इस प्रयास को सफल बनाने में सक्रिय सहयोग का आग्रह किया।
कार्यशाला में मंडी, कुल्लू, हमीरपुर, बिलासपुर व लाहुल स्पीति के डीसी व एसडीएम, मंडी के पुलिस अधीक्षक सहित मंडलीय क्षेत्र के सभी विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।