कोचिंग सेंटर 400, फायर के नोटिस दिए सिर्फ 34 को, चेकिंग भी नहीं; भगवान भरोसे स्टूडेंट्स
May 25th, 2019 | Post by :- | 389 Views

सूरत में एक इंस्टीट्यूट की बिल्डिंग के टॉप फ्लोर पर शुक्रवार को आग लगने से 23 स्टूडेंट्स की मौत हो गई है। जब बचने का रास्ता नहीं मिला तो स्टूडेंट ऊपर से ही कूद गए। यह हादसा सबको जगाने वाला है, क्योंकि ऐसा ही हाल चंडीगढ़ और आसपास के शहरों में है। चंडीगढ़ के सेक्टर-8, 15, 17, 20, 24, 32, 34, 36, 38, 40 और 46 में चल रहे करीब 400 कोचिंग इंस्टीट्यूट में से फायर फाइटिंग उपकरण का प्रॉपर इंतजाम नहीं है।

निगम के फायर एंड इमरजेंसी डिपार्टमेंट ने 34 कोचिंग इंस्टीट्यूट को ही वॉयलेशन के नोटिस दिए हैं। यह नोटिस मार्च में दिए थे, नोटिस को इंस्टीट्यूट मालिक ने फॉलो किया है या नहीं, यह चेक ही नहीं किया गया। साफ है कि डिपार्टमेंट के अफसर इस गंभीर मुद‌्दे पर कुछ नहीं कर रहे।

एडिशनल कमिश्नर एवं चीफ फायर ऑफिसर अनिल कुमार गर्ग ने कहा कि शहर में 34 कोचिंग इंस्टीट्यूट नोटिस दिए गए थे। नोटिस की अवधि समाप्त हो चुकी है। इलेक्शन के दौरान दोबारा चेकिंग नहीं हो सकी। अब चेकिंग करवाकर दोबारा से नोटिस दिया जाएगा। इसके अलावा बाकी कोचिंग इंस्टीट्यूट को भी दोबारा से चेक करवाया जाएगा।

शहर के शोरूम में चलने वाले किसी एक इंस्टीट्यूट में आग लग गई तो टॉप फ्लोर से छलांग लगाने को मजबूर होना पड़ेगा। क्योंकि सीढ़ियों से आग की भगदड़ में नीचे नहीं उतरा जाएगा। धुआं होने से सीढ़ियों के बंद होने की सूरत में नीचे उतरने का शोरूम के इंस्टीट्यूट में कोई इंतजाम नहीं है। शोरूम में खुले कोचिंग इंस्टीट्यूट्स में कई-कई कैबिन बनाकर बच्चों को पढ़ाया जा रहा है। यह सब नेशनल बिल्डिंग कोड का वॉयलेशन है। इसकी आज तक इस्टेट ऑफिस ने भी जांच नहीं की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।