भूख हड़ताल के 200 दिन पूरे होने पर करूणामूलक संघ करेगा सदबुद्धि यज्ञ #news4
February 12th, 2022 | Post by :- | 128 Views

शिमला : आज करुणामूलक संघ की क्रमिक भूख हड़ताल के 198 दिन पूरे हो चुके है। दिन प्रतिदिन करुणामूलक संघ नया कीर्तिमान स्थापित कर रहा है, हिमाचल के इतिहास में पहली बार हो रहा है जो कोई वर्ग इतने लम्बे समय से भूख हड़ताल पर बैठा हो। करुणामूलक संघ के प्रदेशाध्यक्ष अजय कुमार ने कहा कि जैसे ही करुणामूलक संघ 200 दिन क्रमिक भूख हड़ताल के पूरे कर लेगा। उस दिन प्रदेश भर के करुणामूलक आश्रित मंत्री विशेष जल शक्ति मंत्री की सदबुद्धि के लिए हवन करने जा रहे है, ताकि इस हवन के बाद सरकार व मन्त्री विशेष करुणामूलक परिवारों के हित में फैसला लें। प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार का कहना है कि इस संघर्ष में अभी तक सरकार का कोई भी नुमाइंदा करुणामूलक आश्रितों से मिलने नहीं आया न ही सुध बुध ली। जबकि 2017 में सत्ता में बिठाने के लिए करुणामूलक परिवारों का बहुत बड़ा योगदान रहा है।

आश्रितों ने ये भी कहा कि मुख्यमंत्री चुनाव प्रचार के लिए अगर पड़ोसी राज्यों में जा सकते है तो करुणामूलक परिवारों से मिलने क्यों नहीं आ सकते। जबकि करुणामूलक आश्रित राजधानी शिमला में मुख्यमंत्री आवास से कुछ ही दूरी पर काली बाड़ी के पास बर्षाशालिका में बैठे है। क्यों मुख्यमन्त्री को करुणामूलक संघ की भूख हड़ताल का मंच सात महीनों में एक बार भी नहीं दिखा। संघ के प्रदेशाध्यक्ष अजय कुमार का दो टूक शब्दों में कहना है कि अभी भी सरकार के पास समय है। 14 तारिख को कैबिनेट भी होने जा  रही है और इसी दिन करुणामूलक संघ अपने 200 दिन पूरे कर लेगा और ठीक इसी दिन मंत्री विशेष जल शक्ति मंत्री की सदबुद्धि के लिए करुणामूलक आश्रित ने हवन करवाने जा रहे है ताकि कैबिनेट में करुणामूलक मुद्दा जोरों शोरों से गूंजे और क्लास-सी के आश्रितों को इसी कैबिनेट में न्याय मिल सके। अगर सरकार आगामी कैबिनेट में जो 14 फरवरी को होने जा रही है उसमें करुणामूलक परिवारों के लिए कुछ नहीं करती है तो इसी तरीके से करुणामूलक संघ प्रदेश सरकार के हर मंत्री की सदबुद्धि के लिए हवन करवाएगा और संघ द्वारा एक हफ्ते में दो हवन पाठ करवाए जाएंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।