प्राकृतिक पेयजल स्रोतों का करें संरक्षण : महेन्द्र सिंह ठाकुर
October 2nd, 2019 | Post by :- | 588 Views

सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य, बागवानी व सैनिक कल्याण मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने जल संग्रहण की आवश्यकता पर बल देते हुए प्राकृतिक पेयजल स्रोतों के संरक्षण व रखरखाव पर बल दिया है। उन्होंने लोगों से समय समय पर खातियों-बावडिय़ों की सफाई करते रहने का आग्रह किया। कहा कि इन्हें लंबे समय तक जीवंत रखने के लिए जन भागीदारी जरूरी है। उन्होंने ये बातें बुधवार को धर्मपुर विधानसभा के तहत विभिन्न गांवों में विकास परियोजनाओं को जनता को सौंपने के बाद धलारा, भूर, कोठुआं और भूरड में जनसभाओं को संबोधित करते हुए कहीं।
महेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में भू-जल स्तर में गिरावट बेहद चिंताजनक है, इसमें सुधार लाने के लिए बारिश के पानी का संचय जरूरी है। आवश्यक है कि वर्षा के पानी को व्यर्थ न बहने दें जलसंग्रहण टैंक, तालाब व अन्य तरीकों से जल का संचय करें। बचाए गए पानी को ही खेतों की सिंचाई के प्रयोग में लाएं।
महेंद्र सिंह ठाकुर ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर धर्मपुर विधान सभा के अन्तर्गत ग्राम पंचायत भूर में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए सभी से उनके दिखाए सत्य, अहिंसा व स्वच्छता के मार्ग पर चलने का आह्वान किया। इस मौके उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को भी उनके जयंती अवसर पर श्रद्धासुमन अर्पित किए।
महेंद्र सिंह ठाकुर ने धर्मपुर विधान सभा के तहत करीब 1 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले गौरत से चमेहड़ कलतारी रोड़ के कार्य का शुभांरभ किया। भरूड़ संगरैलू सड़क में 6.50 लाख रुपए की लागत से सीमेंट-कंकरीट पेवमेंट व प्रतिधारक दीवारों के कार्य और 5 लाख रुपए की लागत से भूर गांव के लिए सम्पर्क सड़क के निर्माण कार्य का शुभारंभ किया। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र झंगी का उद्घाटन किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।