विजीलैंस द्वारा मामला दर्ज किया जाना साजिश : जगदीश सिपहिया #news4
May 30th, 2022 | Post by :- | 162 Views

कांगड़ा : कांगड़ा केंद्रीय सहकारी बैंक के पूर्व अध्यक्ष जगदीश सिपहिया ने उन पर विजीलैंस द्वारा मामला दर्ज किए जाने को सरकार तथा सुलह के विधायक की साजिश करार देते हुए कहा कि उन्होंने अध्यक्ष के नाते यह नियुक्ति नियमानुसार की थी तथा इसे वह छुपा नहीं रहे हैं। ऐसे में विजीलैंस जांच की आवश्यकता ही नहीं थी। यदि सरकार चाहे तो उन पर प्राथमिकी दर्ज कर जांच कर सकती थी। उन्होंने कहा कि यह किसी प्रकार का घोटाला नहीं था परंतु चूंकि वह सुलह से कांग्रेस टिकट के दावेदारों में से एक हैं, ऐसे में अब सरकार तथा सुलह के विधायक इसे लेकर चिंतित हैं। इस कारण यह कार्रवाई की गई है।

उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार का मात्र 3 माह का कार्यकाल शेष है, ऐसे में सरकार तथा सुलह के विधायक जो नीति अपनाए हुए हैं उन पर भी यह नीति अपनाई जा सकती है। जगदीश सिपहिया ने कहा कि जब वह कांगड़ा केंद्रीय सहकारी बैंक के अध्यक्ष बने तो उस समय बैंक का लाभांश साढ़े 13 करोड़ था जबकि बैंक के अध्यक्ष पद से हटते समय पर यह लाभांश 64 करोड़ रुपए जा पहुंचा था। उनके कार्यकाल में बैंक की 35 नई शाखाएं विभिन्न स्थानों पर खोली गईं तथा 80 ए.टी.एम. स्थापित किए गए। वहीं हर कर्मचारी को समय पर पदोन्नति दी गई।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में बैंक का ग्रॉस एन.पी.ए. 8 प्रतिशत से बढ़कर 35 प्रतिशत तक जा पहुंचा है, ऐसे में सुलह के विधायक को इसकी ङ्क्षचता नहीं। मात्र उनकी छवि को खराब करने के लिए उनके राजनीतिक विरोधी हताशा तथा निराशा में इस प्रकार का कार्य कर रहे हैं। जबकि सहकारिता नियमावली के अनुसार धारा 34-ए-4 के अंतर्गत ही उस समय निदेशक मंडल में तैनाती की गई थी। लोक सेवा आयोग के पूर्व अध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता डी.वी.एस. राणा ने कहा कि सरकार आधारभूत सुविधाओं की पूरी तरह से अनदेखी कर रही है जबकि आधारभूत सुविधाएं सरकार की प्राथमिकता होनी चाहिए ताकि आम जनमानस को सुविधा मिल सके ।

ऑडियो क्लिप पर संज्ञान ले पुलिस
क्षेत्र में ऑडियो क्लिप वायरल होने को लेकर जगदीश सिपहिया ने कहा कि इस केस को दबाया जा रहा है जबकि इसकी प्रखरता से जांच होनी चाहिए तथा कार्रवाई की जानी चाहिए। परंतु इस मामले पर प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन पूरी तरह से चुप्पी साधे बैठा हुआ है। वहीं अभिभावकों को भी दबाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन स्वत: इस मामले में संज्ञान लें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।