तीर्थन घाटी गुशैनी में धूमधाम और गर्व से मनाया गया संविधान दिवस। #news4
November 26th, 2022 | Post by :- | 167 Views

तीर्थन घाटी गुशैनी बंजार (परस राम भारती):- देश और प्रदेश भर में हर साल 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाता है। यह खास दिन 1949 के ऐतिहासिक दिन को दर्शाता है जब देश की संविधान सभा द्वारा भारतीय संविधान को अपनाया गया था। इसी कड़ी में इस बार
जिला कुल्लू उपमंडल बंजार की तीर्थन घाटी गुशैनी में केंद्रीय संचार ब्यूरो हमीरपुर हिमाचल प्रदेश द्वारा सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार गीत एवं नाटक प्रभाग के सौंजय से दो दिवसीय संविधान दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसका आज समापन हो गया है। इस अवसर पर बंजार के एसडीएम हेम चन्द वर्मा बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहे।

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय गुशैनी में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान मुख्य अतिथि, पदाधिकारियों व विद्यार्थियों ने संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के चित्र पर माल्यार्पण करके संविधान की रक्षा के लिए शपथ ली। तीर्थन घाटी के गुशैनी स्कूल में पहली बार हुए संविधान दिवस के इस आयोजन को लेकर छात्र छात्राओं में काफी उत्साह देखने को मिला।

इस दो दिवसीय कार्यक्रम के प्रथम दिन स्कूली बच्चों के लिए संविधान आधारित पेंटिंग व नारा लेखन प्रतियोगिता तथा एक जागरूकता रैली का आयोजन किया गया। गुशैनी स्कूल राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवियों द्वारा अन्य बच्चों के साथ शुक्रवार को गुशैनी बाजार में संविधान के प्रति जागरूकता रैली निकाली गई। इस दौरान पेंटिंग और नारा लेखन प्रतियोगिता के विजेताओं को इनाम भी बांटे गए। प्रतियोगिता में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय गुशैनी के करीब 50 छात्रा छात्राओं ने हिस्सा लिया है। पेंटिंग प्रतियोगिता में सातवीं कक्षा के सूर्यांश प्रथम, नवी कक्षा की खुशबू द्वितीय, गयारहवी कक्षा की सुषमा को तीसरा स्थान हासिल हुआ है। वहीं नारा लेखन प्रतियोगिता में बाहरवीं कक्षा की प्रिया राणा को प्रथम सुनिधि जुफरा को दूसरा और सोनिका को तीसरा स्थान हासिल हुआ है।

इस कार्यक्रम के दौरान राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय गुशैनी की प्रवक्ता डॉ बबीता राही, प्रवक्ता महेंद्र सिंह डोड व अन्य वक्ताओं ने संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के जीवन और संविधान के महत्व बारे विस्तृत से अपने अपने विचार रखे। प्रवक्ता महेंद्र सिंह डोड ने अपने संबोधन में कहा कि आज के दिन ही 26 नवंबर 1949 को भारत का संविधान तैयार हुआ जिसे सभी 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया था। इन्होंने
उपस्थित बच्चों को
बताया कि हमें मूल अधिकार के प्रति सजग होने के साथ साथ अपने कर्तव्यों के प्रति भी संवेदनशील होना चाहिए।

इस कार्यकर्म के समापन अवसर पर अमर ज्योति संस्कृतिक कला मंच रीजनल आउटरीच केन्द्रीय संचार ब्यूरो चंडीगड़ के कलाकारों द्वारा संविधान आधारित नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से उपस्थित लोगों को जागरुकता के साथ साथ भरपूर मंनोरंजन भी किया। इस टीम का नेतृत्व महिला प्रभारी अमरावती मोहिला द्वारा किया गया।

कार्यक्रम के समापन अवसर पर राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय गुशैनी के उप प्रधानाचार्या प्रकाश दीपक ने मुख्य अतिथि और अन्य सभी गणमान्य लोगों का इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आभार प्रकट किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।