धर्मशाला में नक्शे पास न होने से लटका शहरियों के भवनों का निर्माण #news4
November 8th, 2021 | Post by :- | 124 Views

धर्मशाला : नक्शे पास न होने से धर्मशाला शहर में शहरियों के भवनों का निर्माण लटककर रह गया है। इस दिशा में जल्द नगर निगम के अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को आवश्यक कदम उठाने की जरूरत है, जिससे कि शहर के लोगों को भवन निर्माण में परेशानी का सामना न करना पड़े। उपरोक्त मांग जन चेतना धर्मशाला के पदाधिकारियों ने अध्यक्ष एससी धीमान की अध्यक्षता में हुई बैठक में नगर निगम धर्मशाला के महापौर ओंकार नैहरिया के समक्ष उठाई।

वहीं बैठक में इसके अलावा जन चेतना के पदाधिकारियों व सदस्यों ने शहर के विभिन्न वार्डों की समस्याओं को भी उनके समक्ष रखते हुए शहर के सभी वार्डों में सफाई व्यवस्था को पुख्ता बनाने की भी मांग उठाई। जिससे जगह-जगह लग रहे कूड़े के ढेरों से समस्या झेल रहे शहरियों को राहत मिल सके। साथ ही बढ़ती बेसहारा पशुओं की संख्या पर भी उन्होंने चिंता जाहिर की। जनचेतना के पदाधिकारियों के मुताबिक अकसर सड़कों में बेसहारा पशु बैठे रहते हैं। जिसके कारण यातायात अवरूद्ध होता है और इससे हादसा होने का भी डर अकसर बना रहता है। इसलिए इस दिशा में भी ठोस कदम उठाया जाए। जन चेतना की बैठक में पदाधकारियों ने शहर में बनए गए कंकरीट रोड के किनारे को दुरुस्त किए जाने की मांग उठाई है। इस मौके पर जन चेतना धर्मशाला के सचिव एसएस बैंस के अलावा अन्य पदाधिकारी व सदस्य भी मौजूद रहे।

अध्यक्ष जन चेतना धर्मशाला एससी धीमान  ने कहा कि नक्शे पास न होने से लटका शहरियों के भवनों का निर्माण जनचेतना की हुई बैठक में नगर निगम के महापौर ओंकार नैहरिया ने शिरकत की और उन्हें शहर की तमाम समस्याओं से अवगत करवाकर इनका जल्द निराकरण करने की मांग उठाई गई है। जिस पर उन्होंने आश्वास्त किया है कि जल्द ही इस दिशा में अधिकारियों से बातचीत कर इन सभी समस्याओं का समाधान कराया जाएगा।

नगर निगम धर्मशाला के महापौर ओंकार नैहरिया नेकहा कि जन चेतना की बैठक में स्वयं उपस्थित रहा हूं और कई समस्याएं इस दौरान सामने आई हैं। जिनके समाधान के लिए अधिकारियों से जल्द बैठक की जाएगी। जिससे कि शहर की समस्याओं का समाधान किया जा सके। शहर के लोगों को सुविधाएं मिले, इसके लिए प्रयास जारी हैं और कड़े कदम भी निगम उठाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।