कोरोना ने रोकी चीन की हेकड़ी , ठप्प हुआ व्यापार
March 10th, 2020 | Post by :- | 129 Views

दुनिआ भर में चीन जिस प्रकार न सिर्फ अपना एकमात्र व्यापार स्थापित करना चाहता था , बल्कि चीन की हेकड़ी भी किसी से छुपी नहीं थी | चीन चाहता था कि दुनिया भर में सिर्फ चीन से निर्मित वस्तुएं ही बिकें | चीन दुनिया पर एकछत्र राज करने की ठान चूका था , जिसे कोरोना ने रोक दिया .. या यूँ कहा जाए कि कोरोना के जरिये रुकवाया गया तो गलत नहीं होगा ..

जरा गौर कीजिये कि आखिर हर वायरस की शुरुआत , चीन से ही क्यों हो रही है .. स्वाइन फ्लू हो या कोरोना , चीन से ही आता है| वास्तव में चीन वायोलॉजिकल हथियार बना रहा है | चीन किसी भी देश में अलग किसम का वायरस फैलाकर , उस देश की आर्थिकी को चौपट करना चाहता है और फिर उसके व्यापार पर अपना अधिकार करना चाहता है |

चीन कोरोना वायरस को बड़े पैमाने पर हथियार के रूप में प्रयोग करना चाहता था , इसकी गुप्त सूचना जैसे ही कुछ विकसित देशों तक पहुंची हड़कंप मच गया | बताया तो यह भी जा रहा है कि , सबसे पहले इसकी गुप्त सूचना , भारत के पास आई |क्यूंकि भारत लगातार चीन पर नजरें बनाये हुए है , ऐसे में इसकी भनक भी पहले भारत को लगी , जिसे कुछ मित्र देशों से सांझा किया गया | अमेरिकी राष्ट्रपति ने भारत सहित कुछ बड़े देशों से आनन फानन में मुलाक़ात की और तुरंत कार्यबाही करने बारे चर्चाएं हुई

अगर चीन इस वायरस को दूसरे देशों पर छोड़ देता तो वहां भयंकर तबाही मच जाती और उस देश की आर्थिकी चौपट हो जाती | लेकिन ऐसा होता , इससे पहले इस वायरस को चीन की ही लैब में लीक करवा दिया गया | जो तबाही चीन , दुनिया भर में मचाना चाहता था , वह चीन में ही मच गई |चीन में वहां की तानाशाह सरकार ही मिडिया का काम करती है ऐसे में वही सूचनाएं बाहर आएँगी , जो सरकार देना चाहेगी | वताया तो यहां तक जा रहा है कि चीन में कोरोना से लाखों लोगों की मौत हो चुकी है , जबकि आंकड़ा मात्र कुछ हजार ही बताया जा रहा है |

चीन का व्यापार चौपट हो चूका है , क्यूंकि कोई भी देश वायरस आ जाने के दर से चीन का सामान नहीं मंगवा रहा | यानी जो तबाही चीन , दुनिया में मचाना चाहता था , वह उसके अपने ही देश में मच गया।

कुछ देश यूं भी मान रहे हैं , कि अगर भारत इस बारे दुनिया को सचेत न करता, तो शायद दुनिया मौत का ढेर बन जातो

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।