हवा में कई घंटों तक जीवित रह सकता है कोरोना वायरस: वैज्ञानिक
April 2nd, 2020 | Post by :- | 360 Views

कोरोना वायरस के लगातार मामले बढ़ते  ही जा रहे हैं। जहां एक ओर सरकार के साथ-साथ सीडीसी और विश्व स्वास्थ्य संगठन लोगों को घरों में रहने की अपील कर रही हैं। वहीं दूसरी ओर वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस को लेकर हैरत करने वाली खबर सामने ला दी हैं। इसके अनुसार कोोविज-19 कई घंटे हवा में जीवित रह सकता है। इतना हीं यह खांसी-छींक के माध्यम से आठ मीटर दूर खड़े व्यक्ति को भी संक्रमित कर सकता हैं।

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और ‘अमेरिका रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र’ (सीडीसी) के सामाजिक दूरी के मौजूदा दिशानिर्देश पर्याप्त नहीं हैं और खांसी या छींकने से यह वायरस आठ मीटर दूर तक जा सकता है।

‘जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन’ में प्रकाशित अनुसंधान के अनुसार डब्ल्यूएचओ तथा सीडीसी ने इस समय जो दिशानिर्देश जारी किये हैं वे खांसी, छींक या श्वसन प्रक्रिया से बनने वाले ‘गैस क्लाउड’ के 1930 के दशक के पुराने पड़ चुके मॉडलों पर आधारित हैं।

अध्ययनकर्ता एमआईटी की एसोसिएट प्रोफेसर लीडिया बूरूइबा ने आगाह किया कि खांसी या छींक की वजह से निकलने वाली सुक्ष्म बूंदें 23 से 27 फुट या 7-8 मीटर तक जा सकती हैं। उन्होंने कहा कि मौजूदा दिशानिर्देश बूंदों के आकार की अति सामान्यकृत अवधारणाओं पर आधारित है और इस घातक रोग के खिलाफ प्रस्तावित उपायों के प्रभावों को सीमित कर सकते हैं।

कोरोना वायरस के लक्षण

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस के लक्षण (Corona Virus Symptoms) की बात करते हुए बताया 88 फीसदी को बुखार, 68 फीसदी को खांसी और कफ, 38 फीसदी को थकान, 18 फीसदी को सांस लेने में तकलीफ, 14 फीसदी को शरीर और सिर में दर्द, 11 फीसदी को ठंडी लगना और 4 फीसदी को डायरिया होना प्रमुख है।

INDIA TV

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।