Coronavirus: देश में कुल मामले 19 हजार के करीब, अबतक 603 मरीजों की मौत
April 21st, 2020 | Post by :- | 207 Views

नई दिल्ली. देश में कोरोनावायरस का मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। पिछले 24 घंटे में कोरोनावायरस के कुल 1329 नए मरीज सामने आए हैं और 44 मरीजों की मौत हो गई है। नए मरीज सामने आने के बाद कुल मामले बढ़कर 18 हजार 985 हो गए। इन मामलों में से 15 हजार 122 एक्टिव केस हैं, 3 हजार 260 मरीज ठीक हो चुके हैं और 603 लोगों की मौत हो चुकी है।

इससे पहले स्वास्थ्य मंत्रालय की प्रेस वार्ता में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि 3 जिलों में पिछले 28 दिनों से कोई नया मामला सामने नहीं आया है, इसमें एक नया जिला प्रतापगढ़, राजस्थान शामिल हुआ है। देश में 61 ऐसे जिले हैं जिनमें पिछले 14 दिनों से कोई नया मामला सामने नहीं आया है। उन्होंने कहा कि पिछले 24 घंटों में स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या 705 थी, यह एक दिन में स्वस्थ होने वालों की सर्वाधिक संख्या है। अग्रवाल ने कहा कि इसके साथ ही स्वस्थ होने वाले मरीजों का प्रतिशत 14.75 से बढ़कर 17.48 हो गया है।

2 दिनों के लिए रैपिड टेस्टिंग किट का उपयोग नहीं करने की सलाह

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के आर. गंगाखेड़कर ने कहा कि राज्यों को दो दिनों के लिए रैपिड टेस्टिंग किट का उपयोग नहीं करने की सलाह दी गई है। रिजल्ट में बहुत भिन्नताएं आ रहीं थीं जिसके चलते ऑन ग्राउंड टीमों द्वारा किट परीक्षण के बाद 2 दिनों में एडवाइजरी जारी की जाएगी। उन्होंने बताया कि 4,49,810 सैंपलों का अब तक टेस्ट किया जा चुका है। कल 35,852 सैंपलों का टेस्ट किया गया जिनमें से 29,776 नमूनों का टेस्ट 201 ICMR नेटवर्क लैब में और बाकी 6,076 सैंपलों का टेस्ट 86 निजी प्रयोगशालाओं में किया गया।

हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स और वालंटियर्स का डेटाबेस तैयार

मंगलवार शाम हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि सरकार ने covidwarriors.gov.in नाम से हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स और वालंटियर्स का डेटा बेस तैयार किया। अभी तक इस डेटा बेस में 1.24 करोड़ कोरोना वारियर्स की डिटेल दी गई है। इस पोर्टल पर 20 श्रेणियों और 49 उप-श्रेणियों में कोरोना योद्धाओं का विवरण है, जो COVID19 प्रबंधन प्रयासों में योगदान कर सकते हैं। ये पोर्टल सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए उपलब्ध हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।