नर्सिंग की खाली साढ़े पांच सौ सीटों के लिए होगी काउंसलिंग
October 29th, 2019 | Post by :- | 142 Views

देश विवि से संबद्ध निजी नर्सिंग कॉलेजों में इस बार काउंसलिंग के दो राउंड पूरे होने पर भी साढे़ पांच सौ से अधिक स्टेट और मैनेजमेंट कोटा की सीटें खाली रह गई हैं। एक निजी नर्सिंग कॉलेज की ओर से खाली रही सीटों को भरने के लिए न्यायालय से लगाई गई अपील के बाद बुधवार को विवि सभागार में बीएससी नर्सिंग कोर्स के लिए काउंसलिंग का तीसरा राउंड होगा। इसमें विवि से संबद्ध निजी करीब 38 कॉलेजों की साढ़े पांच सौ के करीब सीटें भरने की प्रक्रिया पूरी की जानी है।  एचपीयू की ओर से बीएससी नर्सिंग कोर्स की प्रवेश परीक्षा 2019 के प्राप्तांक के आधार पर ही तीसरे राउंड में सीट आवंटन किया जाना है । पहले और दूसरे चरण की काउंसलिंग में बुलाई गई पात्र अभ्यर्थी भी हिस्सा लेने के लिए पात्र होंगी। जो अब तक काउंसलिंग में अपीयर नहीं हुए है, वे भी इसमें हिस्सा ले सकेंगे।

बीएससी नर्सिंग काउंसलिंग कमेटी के चेयरमैन निदेशक चिकित्सा शिक्षा डॉ. रवि चंद शर्मा और विवि के परीक्षा नियंत्रक डॉ. जेएस नेगी की देखरेख में यह प्रवेश की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। जिन्हें मैनेजमेंट कोटा में निजी कॉलेजों में सीटें आवंटित की जा चुकी हैं, वे स्टेट कोटा में सीटें पाने के लिए काउंसलिंग में हिस्सा ले सकेंगे।

वित्त अधिकारी के नाम से बनाने होगा सौ रुपये का बैंक ड्राफ्ट
पहली बार काउंसलिंग में हिस्सा लेने वाले अभ्यर्थियों को सौ रुपये के आईपीओ/बैंक ड्राफ्ट बनवाना होगा। यह वित्त अधिकारी एचपीयू के नाम होना चाहिए। जिन्हें काउंसलिंग में निजी कॉलेजों में सीटें आवंटित कर दी जाएंगी, उन्हें दस हजार फीस जमा करवानी होगी। विवि की प्रवेश परीक्षा शाखा ने साफ किया है कि इस काउंसलिंग के लिए किसी को अलग से पत्र जारी नहीं किए गए हैं।

विवि से संबद्ध निजी नर्सिंग कॉलेजों में बीते वर्ष के मुकाबले कॉलजों की संख्या आठ और बढ़ गई है, मगर इन सीटों के बढ़ने के साथ ही कोर्स करने के लिए आवेदन और प्रवेश लेने वालों की संख्या और रुचि कम होती नजर आ रही है। काउंसलिंग से संबंधित जानकारी विवि की वेबसाइट पर भी उपलब्ध करवाई गई है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।