कुजेश्वर महादेव जयसिंहपुर में व्यास में फंसे दंपति, पानी के टैंक में चढ़कर बचाई जान #news4
August 20th, 2022 | Post by :- | 154 Views

जयसिंहपुर : बारिश के कारण जिला कांगड़ा में दो लोगों की मृत्यु हो गई और स्थानीय लोगों और उपमंडल स्तर पर विभिन्न विभागों को करोड़ों का नुकसान हुआ है। लंबागांव पुलिस थाना के तहत पड़ते कुंजेश्वर महादेव में एक दंपति व्यास नदी का जलस्तर बढ़ने के चलते पानी में फंस गए। शनिवार सुबह एकाएक बढ़े ब्यास के जलस्तर के कारण दोनों पति पत्नी पानी में फंस गए। गनीमत रही कि जिस स्थान पर वह लोग थे वहां जलशक्ति विभाग का एक पानी का टैंक था। ऐसे में दोनों ने टैंक के उपर चढ़कर अपनी जान बचाई।

जानकारी के मुताबिक जलशक्ति विभाग में कार्यरत नीटू राम पुत्र मस्त राम निवासी पंडेर लंबागांव जोकि जलशक्ति विभाग कुंजेश्वर महादेव में कार्यरत हैं। नीटू राम अपनी पत्नी निशा देवी के साथ ब्यास की ओर गया था। इस दौरान अचानक ब्यास नदी का जलस्तर बढ़ गया। दोनों टैंक में चढ़ गए तो लोगों को उनके फंसे होने का पता चला। इसकी सूचना लंबागांव पुलिस को मिलने के बाद पुलिस ने दोनों को रेस्क्यू किया है।

यहीं नहीं उपमंडल जयसिंहपुर में बारिश में बहुत अधिक नुकसान हुआ है। हलेड़ खड्ड में आए उफान में पूरे हलेड़ गांव में जलमग्न कर दिया। जलस्तर इतना अधिक था कि कई बाइकें व कारें 100 से 200 मीटर दूर बहकर पहुंच गईं। लोगों लोगों ने छत पर आकर अपनी जान बचाई, लेकिन घरों को बहुत अधिक नुकसान हुआ है।

भरवाना में गिरा मकान

पंचायत के तहत भरवाना पंचायत के कमाहरनू वार्ड में एक दो मंजिला स्लेटपोश मकान ढह गया। मदन लाल पुत्र मस्त राम बीती रात को परिवार सहित सोए हुए थे। अचानक ही मकान मे कुछ आवाजें आने लगी। परिवार सचेत हुआ और सभी घर के बाहर भाग गए। हालांकि ग्रामीणों के सहयोग से घर का सामान निकाल लिया था। प्रशासन की ओर से पीड़ित परिवार को 15 हजार रुपये फौरी राशि दी गई है। वहीं पंचायत नंदरुल में कच्चा मकान गिरा। बारी बरसात होने के कारण सतीश कुमार का मकान का एक कमरा गिरा और साथ मै और भी मकान में दरारे आई। पंचायत उपप्रधान संजीव कुमार ने बताया कि सतीश कुमार गरीब परिवार से सम्बंध रखता है। पंचायत प्रधान ने प्रशासन से गरीब परिवार के लिए सहायता की मांग की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।