कर्फ्यू ढील में उमड़ी भीड़, गाड़ियों में पहुंचे लोग, पुलिस ने जब्त कीं चाबियां
April 28th, 2020 | Post by :- | 264 Views

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए हिमाचल में तीन मई तक लॉकडाउन के साथ कर्फ्यू भी लागू है। सरकार लोगों की सुविधा के लिए कर्फ्यू में हर दिन चार घंटे की ढील दे रही है, ताकि वे जरूरी सामान की खरीदारी कर सकें। सरकार ने मास्क पहनकर ही बाहर निकलना अनिवार्य किया है। साथ ही सामाजिक दूरी का पालन भी जरूरी है। लेकिन कई जगह इन नियमों को ताक पर रखा जा रहा है।

मंगलवार को ऊना में कर्फ्यू ढील के दौरान इन नियमों की धज्जियां उड़ गईं। ढील के दौरान शहर में लोगों की भारी भीड़ उमड़ गई। इससे प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए। लोग अपने निजी वाहनों में खरीदारी करने पहुंच गए। पुलिस के लिए भी भीड़ को काबू करना मुश्किल हो गया।

पुलिस से नियमों की सख्ती से पालना के लिए 50 से अधिक वाहन चालकों के चालान काटे। साथ ही वाहनों की चाबियां भी जब्त कर ली गईं। ऊना एएसपी विनोद धीमान ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि पुलिस कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों से सख्ती से निपटेगी।

एसएसपी ने कहा कि ढील के दौरान निजी वाहनों को लाने की अनुमति नहीं है। ऐसा करने पर चालान काटे जाएंगे और गाड़ी की चाबी जब्त की जाएगी। सामाजिक दूरी का पालन करना होगा।

बता दें, कोरोना वायरस की रोकथाम के चलते लागू किए गए कर्फ्यू के नियमों में जिला प्रशासन ने बड़ा बदलाव किया है। जिले भर में गैर जरूरी दुकानों को खोलने की अुनमति प्रदान की गई थी। लेकिन गृह मंत्रालय की नई गाइडलाइन का हवाला देते हुए प्रशासन ने अब शहरी क्षेत्रों में जरूरी सामान के अलावा किसी भी दुकान को रोजाना खोलने की अनुमति वापस ले ली है।

जिला दंडाधिकारी संदीप कुमार के अनुसार दुकानदारों को सोमवार को छूट प्रदान की गई थी, लेकिन इस दौरान दुकानदारों व लोगों का समुचित सहयोग न मिलने के कारण यह आदेश वापस ले लिए गए हैं। डीसी ने कहा कि यह आदेश नगर परिषद ऊना, मैहतपुर बसदेहड़ा, नंगल खुर्द, दौलतपुर चौक और संतोषगढ़, गगरेट शहरी क्षेत्रों के लिए लागू होंगे। उपायुक्त संदीप कुमार ने कहा कि केवल ग्राम पंचायतों के अधीन क्षेत्रों में सुबह सात बजे से लेकर 11 बजे तक दुकानों को खोलने की इजाजत दी गई है। इसके अलावा पूरे जिला में कोई भी शॉपिंग मॉल, शॉपिंग कंपलेक्स, हेयर ड्रैसर, ब्यूटी पार्लर, रेस्टोरेंट और शराब की दुकानें नहीं खुलेंगी।

वहीं, स्टेशनरी की दुकानें पहले की तरह सुबह 7 बजे से 11 बजे तक सोमवार व गुरुवार को खुलेंगी। इसके साथ ही मोबाइल शॉप्स को भी इसी अवधि में बुधवार व शनिवार को खोलने की अनुमति दी गई है। डीसी ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में ढाबे खोलने के लिए संबंधित एसडीएम से परमिशन लेनी होगी। कर्फ्यू में ढील के दौरान निजी वाहनों के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी। दूरदराज से दवाई आदि लेने के लिए आने वाले लोगों को व्हीकल की अनुमति संबंधित एसडीएम से लेनी होगी। डीसी ऊना ने स्पष्ट किया कि जिला में अभी तक छह पंचायतें हॉटस्पॉट में शामिल हैं। अगर किसी पंचायत में लगातार 28 दिन तक कोई पॉजिटिव केस नहीं आता है तो उस सूरत में ही पंचायत को हॉटस्पॉट से बाहर किया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।