मैक्‍लोडगंज में मुख्य बौद्ध मंदिर में पूजा अर्चना व दीर्घायु की प्रार्थना के साथ मनाया जाएगा दलाईलामा का जन्मदिवस #news4
July 4th, 2022 | Post by :- | 92 Views

धर्मशाला : मुख्य बौद्ध मंदिर में दलाईलामा का जन्म दिवस मनाया जाएगा। केंद्रीय निर्वासित तिब्बत सरकार द्वारा दलाईलामा के 87वें जन्म दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को लेकर रुपरेखा तैयार की गई है। छह जुलाई को दलाईलामा के जन्म दिवस पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व दलाईलामा मौजूद रहेंगे। मुख्य बौद्ध मंदिर में पूजा अर्चना के बाद उनकी लंबी आयु की प्रार्थना की जाएगी। छह जुलाई को दलाईलामा 87वें वर्ष में प्रवेश करेंगे। सुबह नौ बजे से कार्यक्रम का शुभारंभ होगा।

मुख्य बौद्ध मंदिर की नहीं बल्कि विश्व भर में उनका जन्म दिवस मनाया जाएगा। दलाईलामा बहुत ही कम अपने जन्म दिवस पर मुख्य बौद्ध मंदिर में आते हैं, लेकिन कोरोना काल के दो वर्ष बीत के जाने के बाद वह अपने जन्म दिवस मुख्य बौद्ध मंदिर में होंगे। कोरोना काल के समाप्त होने के बाद इस वर्ष मार्च माह में दलाईलामा ने मुख्य बौद्ध मंदिर में अपने दर्शन देने शुरु किए हैं, और इसके बाद उनकी दो टीचिंग भी मुख्य बौद्ध मंदिर से हो चुकी हैं।

तिब्बती कला केंद्र सहित विभिन्न टीसीवी स्कूलों के छात्र देेंगे सांस्कृतिक प्रस्तुतियां

दलाईलामा के जन्म पर दिवस तिब्बती कला केंद्र टिप्पा सहित अप्पर व लोअर टीसीवी के स्कूली छात्र अपनी सांस्कृतिक प्रस्तुतियां देंगे। लगभग दो घंटे यह कार्यक्रम चलेगा।

दलाईलामा एक संक्षिप्त परिचय

14वें दलाईलामा तेनजिन ग्यात्सो का जन्म 6 जुलाई, 1935 को पूर्वी तिब्बत में हुआ था। तिब्बत में चीन सरकार की दमनकारी नीतियों के चलते उन्हें तिब्बत को छोड़ना पड़ा था। वह 31 मार्च, 1959 को भारत आ गए थे। तभी से दलाईलामा हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में स्थित मैक्लोडगंज में रहकर तिब्बत की संप्रभुता के लिए अहिंसात्मक संघर्ष कर रहे हैं। तिब्बत की आजादी के संघर्ष का जो रास्ता उन्होंने 24 वर्ष की आयु में अपनाया था उसे शांतिपूर्ण ढंग से लेकर आज भी आगे हैं। उन्हें 1989 में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया जा चुका है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।