डलहौजी तीन दिवसीय राष्ट्रीय पैराग्लाइडिंग प्रतियोगिता का हुआ समापन #news4
November 29th, 2021 | Post by :- | 87 Views

डलहौजी : वन, युवा सेवाएं और खेल मंत्री राकेश पठानिया ने कहा कि चलो चंबा अभियान की श्रृंखला में आयोजित हिमालयन मोनाल नेशनल एरोफेस्ट जिला चंबा में पर्यटन विकास के लिए महत्वपूर्ण होगा। राकेश पठानिया आज विश्व विख्यात पर्यटन स्थल खज्जियार में आयोजित हिमालयन मोनाल नेशनल एरोफेस्ट 2021 के समापन अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करते हुए बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि इस प्रतियोगिता ने जिला के पर्यटन विकास को पंख लगाए हैं। प्रदेश में एयरो स्पोर्ट्स, पैरा स्पोर्ट्स तथा सेलिंग से संबंधित साहसिक खेल गतिविधियों के विस्तार के लिए एक कार्य योजना को तैयार किया गया है। कार्य योजना की वित्तीय स्वीकृति के लिए मामला जल्द केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। पठानिया ने खज्जियार झील के सौंदर्यकरण से संबंधित कार्यों के लिए पचास लाख रुपए की राशि उपलब्ध करवाने का ऐलान किया। उन्होंने जल्द खज्जियार झील में दो पेडल बोट उपलब्ध करवाने की बात भी कही।

राकेश पठानिया ने इस दौरान प्रतिस्पर्धा के विजेता प्रतिभागियों को इनाम और प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किए। कार्यक्रम में सदर विधायक पवन नैय्यर ने कहा कि जिला प्रशासन की पहल पर आधारित चलो चंबा अभियान के तहत आयोजित की जा रही विभिन्न गतिविधियों से जिला में पर्यटन गतिविधियां बढ़ी हैं। जिला में दो पैराग्लाइडिंग स्थलों के कार्यशील होने से देश और विदेश में चंबा की पहचान भी बनी है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश सरकार के वर्तमान कार्यकाल के दौरान खज्जियार में 500 गाड़ियों की पार्किंग का निर्माण किया गया है। इसी तरह चंबा खज्जियार संपर्क सड़क का उन्नयन कार्य प्रगति पर है। इससे पहले उपायुक्त डीसी राणा ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया और शाल टोपी एवं चंबा थाल भेंट कर सम्मानित किया। उन्होंने प्रतियोगिता से संबंधित जानकारियां भी साझा की। उपायुक्त ने प्रतियोगिता के आयोजन में अपना सहयोग प्रदान करने के लिए खजियार पैराग्लाइडिंग एसोसिएशन, बीर बिलिंग पैराग्लाइडिंग एसोसिएशन, एनडीआरएफ, अटल बिहारी बाजपेई पर्वतारोहण संस्थान का आभार व्यक्त किया। इस दौरान प्रतियोगिता के प्रायोजकों को भी सम्मानित किया गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।