करसोग सिविल अस्पताल में बनेगा डेडिकेडिड कोविड हेल्थ सेंटर #news4
January 11th, 2022 | Post by :- | 163 Views

करसोग : प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए प्रशासन सतर्क हो गया है। करसोग में कोविड से निपटने के लिए प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी है। इसके लिए सिविल अस्पताल में डेडिकेडिड कोविड हेल्थ सेंटर बनाया जाएगा। इसको लेकर एसडीएम ने सिविल अस्पताल पहुंचकर व्यवस्था का जायजा लिया। इस दौरान एसडीएम ने अस्पताल के सभी वार्डों सहित लैब और परिसर का पूरा निरीक्षण किया। एसडीएम की अध्यक्षता में अस्पताल पहुंची अधिकारियों की टीम ने ऑक्सीजन प्लांट को भी देखा और पाया कि ये सही तरह से कार्य कर रहा है। वार्ड तक ऑक्सीजन की सप्लाई सही तरह से पहुंच रही है। ऐसे  में कोरोना संक्रमण से ग्रस्त अगर किसी मरीज को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है तो उसे अब मेडिकल कॉलेज नैरचौक शिफ्ट नहीं किया जाएगा। इस तरह से सभी मरीजों का करसोग में ही उपचार होगा, जो लोगों के लिए राहत की खबर है। वहीं प्रशासन ने कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए टेस्टिंग बढ़ाने पर जोर दे रहा है। इस तरह सिविल अस्पताल में रोजाना कोरोना के 200 से अधिक टेस्ट होंगे। इसके अतिरिक्त  प्राइमरी हेल्थ सेंटरों को भी टेस्टिंग बढ़ाने को कहा गया है।

करसोग में स्थित सभी कार्यालयों में अब कर्मचारी 50 फीसदी क्षमता के साथ अपनी सेवाएं देंगे। ऐसे में एहतियातन कर्मचारियों के भी कोरोना के सैंपल लिए जाएंगे। कोविड 19 को फैलने से रोकने को प्रशासन ने लोगों से भी सहयोग की अपील की है। लोगों को बिना मास्क घरों से बाहर नहीं निकलने को गया गया है। इसी तरह से  सार्वजनिक स्थानों में भी लोगों को उचित दूरी के नियमों की पालना करनी होगी। इसके बाद भी अगर आदेशों की अवहेलना होती है तो इस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। एसडीएम सन्नी शर्मा ने कहा कि प्रदेश में कोविड के केस बढ़ रहे हैं। इसको देखते हुए सिविल अस्पताल में डेडिकेडिड कोविड हेल्थ सेंटर बनाया जाएगा। जिसका अधिकारियों के साथ जायजा लिया गया। उन्होंने बताया कि हॉस्पिटल में ऑक्सीजन प्लांट अच्छे से कार्य कर रहा है। ऐसे में जिसको भी ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है, उसका उपचार यहीं पर होगा। कोविड पर नियंत्रण पाने के लिए टेस्टिंग सबसे कागरगर उपाय है। इसलिए सिविल अस्पताल सहित प्राइमरी हेल्थ सेंटरों में टेस्टिंग को बढ़ाया जाएगा। सन्नी शर्मा ने बताया कि प्रशासन  हर स्थिति को निपटने के लिए तैयार है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।