होमगार्ड के लिए स्थायी पॉलिसी बनाने की फिर उठी मांग #news4
December 19th, 2021 | Post by :- | 78 Views

ज्वालामुखी : प्रदेश होमगार्ड एसोसिएशन ने होमगार्ड्स के लिए स्थायी पॉलिसी बनाने की मांग सरकार से करते हुए आज राज्यस्तरीय बैठक का आयोजन ज्वालामुखी के अग्रवाल ट्रस्ट में किया। बैठक की अध्यक्षता एसोसिएशन अध्यक्ष जोगिंद्र सिंह चौहड़िया ने की। ज्वालामुखी में प्रदेश भर से होमगार्ड्स इस बैठक में सम्मलित होने के लिए आए। बैठक की अध्यक्षता करते हुए एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष जोगिंद्र सिंह चौहडिया ने कहा कि प्रदेश में एक दो विधायकों को छोड़कर किसी भी विधायक व मंत्री ने होमगार्ड जवानों की बात आज तक नहीं सुनी। उन्होंने कहा कि 58 वर्षों से होमगार्ड जवान सरकार से होमगार्ड जवानों के लिए अन्य विभागों के कर्मचारियों की तरह ठोस नीति बनाने व 12 माह का स्थाई रोजगार देने की मांग कर रहे है, मगर सरकार उनकी मांग को नजरअंदाज कर रही है।

चौहडिया ने कहा कि स्थाई रोजगार न होने के कारण होमगार्ड जवानों को अक्सर आर्थिक तंगी झेलनी पड़ती है और परिवारों के भरण पोषण की परेशानी आ जाती है। जबकि होमगार्ड जवानों को विभिन्न विभागों के साथ अटैच कर दिया जाता है और उनका कार्य पूरा होने के बाद घर बिठा दिया जाता है। प्रदेश के अस्पतालों में तैनात महिला होमगार्ड जवानों की सेवाएं भी खत्म कर दी गई हैं, ऐसे में सरकार कैसे महिला सशक्तिकरण की बात कर सकती है। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट काल में होमगार्ड जवानों ने निस्वार्थ भाव से सेवाएं दी, परंतु सरकार द्वारा अन्य विभागों के कर्मचारियों की सेवाओं की तो सराहना कर रही है, मगर अभी तक होमगार्ड जवानों की बात तक नहीं की गई। इस अनदेखी की वजह से होमगार्ड जवानों का मनोबल कमजोर हो रहा है। उन्होंने सरकार से होमगार्ड जवानों के लिए जल्द 12 माह का स्थाई रोजगार देने की मांग उठाई।

बैठक में होमगार्ड एसोसिएशन बरिष्ठ उपाध्यक्ष अशोक कुमार हमीरपुर, महासचिव उर्मिला देवी कुल्लू, उपप्रधान संजय नेगी किन्नौर, गोपाल शुक्ला शिमला, रमेश चंद सिरमौर, अनुराधा चंबा, कोशाध्यक्ष प्रेम राज लाहुल स्पीति, परविंदर कुमार मंडी, मुख्य सलाहकार अवतार सिंह ऊना, रेत राम कुल्लू, सचिव मेहर चंद मंडी, श्यामा सिरमौर, सदस्य पवन कुमार, अजय राणा ऊना, सुशीला सिरमौर, संगठन सचिव नानक चंद हमीरपुर आदि उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।