देवभूमि कुल्लू के लोक कलाकार जीवन ठाकुर को यू ट्यूब का मिला बहुत बड़ा सम्मान … #news4
November 20th, 2022 | Post by :- | 103 Views

ट्यूब ने सिल्वर प्ले बटन की दी अनुमति

क्रिस ठाकुर Kullu Times

देवभूमि कुल्लू के लोक कलाकार जो प्रदेश में प्रसिद्ध है को यू ट्यूब का बहुत बड़ा सम्मान मिला है। यह कलाकर है जीवन ठाकुर और जीवन ठाकुर को यू ट्यूब ने सिल्वर प्ले बटन की अनुमति दे दी है। अब जीवन ठाकुर उन बड़ी हस्तियों में शुमार हो गए हैं जो संगीत की दुनियां में सुप्रसिद्ध हैं। जीवन ठाकुर को गाने का शौक बच्चपन से ही था और 2003 में जीवन ठाकुर ने पहला गीत ,टीपू टीपू पाणी लागा ओ सुमना ,लिखा था। 2005 में पहली एलबम जख्म दिल के रिकॉर्ड की थी जिसमें 6 गीत थे। सभी गीत जीवन ठाकुर ने लिखे थे और उसके बाद आजतक जीवन ठाकुर ने 220 से ज्यादा गीत लिखे भी हैं और गाये भी हैं। जीवन ने इसमें संगीत भी खुद दिया है, जीवन ठाकुर ने अपनी धर्मपत्नी लीला ठाकुर से भी कई गीत गवाए है। जिन गीतों को यु ट्यूब में लोगों ने काफी सराहा भी है। जीवन ठाकुर के यू ट्यूब चैनल टी सीरीज़ कुल्लू पर इनके हर गीतों को लाखों लोगों ने देखा सुना और काफी ज्यादा सराहना भी मिली। मेरी शोभली मामि मामीयें ,साजा वोला शोभला माघे रा ,दिल ना चोडे मेरी मनीषा ,छेके पकाये फुल्के ,बड़े बाबा री ए लाड़ली ,टीपू टीपू पाणी लागा ओ सुमना ,दिल यारे चोड़िये नोठी बबीता, तेरे देशा ना लाहुलिये लागा पड़दा हिउँ ,चौली किवे दूरा देशा मेरी झुरिये ,ऐसे कई सारे हिट गीत लिखे भी है, और इनमें संगीत भी खुद दिया है। जीवन ठाकुर का खुद का म्यूजिक स्टूडियो है जो ग्राम पंचायत चकुरठा के फगवाना गांव और जिला मंडी के बालीचौकी में भी है। आज जीवन ठाकुर को यू ट्यूब क्रेटर आबर्ड की तरफ से सिल्वर प्ले बटन मिला है, जो यू ट्यूब एक लाख सब्सक्राइबर पूरे होने पे देता है। आज जीवन ठाकुर चैनल पर एक लाख पच्चपन हज़ार से अधिक सब्सक्राइबर हो गए हैं। ये आबार्ड हिमाचल में काफी कम कलाकारों को मिला है। जीवन ठाकुर हर क्षेत्र में मेहनत करता है। जीवन ठाकुर ने अपनी धर्मपत्नी लीला ठाकुर, अपनी पूरी टीम ,अपने परिवार ,व सभी सब्सक्राइबर का धन्याबाद करते हुए उनसे आगे भी प्यार ,सहयोग और आशीर्वाद की मांग रखी है। लोक कलाकार के लिए इससे बड़ी उपलब्धि और क्या हो सकती है कि उन्हें लाखो लोग पसंद कर रहे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।