भगवान की भक्ति किसी भी आयु में की जा सकती है :पंडित सुमित शास्त्री
April 1st, 2019 | Post by :- | 354 Views

भगवान की भक्ति किसी भी आयु में की जा सकती है उक्त वाक्य धरोहर गाँव परागपुर के पंडित सुमित शास्त्री ने भागवत कथा के चौथे दिन बैह ढौंटा के शिव मंदिर में कहे ।सुमित शास्त्री ने कहा कि साधारण मानवों की भक्ति पूरी उम्र गुजर जाने पर भी नहीं जागती जबकि पाँच वर्ष का बालक ध्रुव जिसने मात्र छह महिनों में प्रभु को मधुवन मे प्रकट कर दिया । हम सोचते रहतें हैं कि अभी बड़ा समय हैं पूजा- पाठ व भक्ति करने के लिए लेकिन जब काल नगाड़ा बजता है तो सब छोड़ – छाड़ के जाना पड़ता है । इसके बाद दूर -दराज से आए हुए बाँके बिहारी के भक्तों ने जन्मोत्सव का आनंद मनाया । कल यहाँ गिरीराज भगवान को छप्पन प्रकार के भोग लगाये जाएंगे । इस दौरान चनोर(ठाकुरद्वारा) के लोगों को भागवत कथा के मोल का पता चला वहीं शास्त्री जी ने अपनी वाणी में कहा कि 5 वर्षीय बालक ध्रुव जिन्होंने मात्र 6 महीनो में प्रभु को मधुवन में प्रकट कर दिया था ।

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।