धर्मशाला : डेढ साल में छठी बार पुल बनाया, विभाग नक्शे पर फंसा, ग्रामीण बोले-अब घेरेंगे सरकार को #news4
December 14th, 2022 | Post by :- | 78 Views

धर्मशाला : विधानसभा क्षेत्र धर्मशाला की पासू पंचायत के लोगों ने सरकार से डेढ़ साल में कोई राहत न मिलने के कारण अपने खर्चे पर छठी बार राहगीरों व दोपहिया वाहनों के लिए 2 जे.सी.बी. की मदद से वैकल्पिक पुल का निर्माण किया। यह पुल 12 जुलाई, 2021 को मांझी खड्ड में आई बाढ़ के कारण बह गया था। तब से करीब डेढ़ साल का समय बीत गया है, लेकिन लोक निर्माण विभाग व प्रदेश सरकार की ओर से आज दिन तक नए पुल का काम शुरू नहीं किया गया। इस वजह से अब लोगों में भारी रोष पनप रहा है और दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। अब लोगों ने नई सरकार बनने के बाद पहले शीतकालीन सत्र का घेराव करने का मन बना लिया है। साथ ही ग्रामीण लोक निर्माण विभाग मंडल के बाहर भी धरना-प्रदर्शन को तैयार हैं। विभाग से सुस्त रवैये का खमियाजा ग्रामीणों को झेलना पड़ रहा है। बता दें कि चुनावों से पहले भाजपा सरकार ने नए पुल का शिलान्यास कर दिया, लेकिन 4 माह से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी लोक निर्माण विभाग आज दिन तक एक पुल की डी.पी.आर. तक तैयार नहीं कर पाया है।  ठेकेदार ने पुल बनाने के लिए वहां पर निर्माण सामग्री तक भेज दी है और लेबर भी लेकिन विभाग से पुल का नक्शा न मिल पाने के कारण पुल का काम शुरू नहीं हो पा रहा है। अभी तक डेढ़ साल में ग्रामीणों ने अपने खर्चे पर छठी बार वैकल्पिक पुल बनाया है। अभी तक ग्रामीण अपने स्तर पर 80 हजार रुपए से अधिक का पैसा खर्च कर चुके हैं। इतना ही नहीं ठेकेदार ने खड्ड में एक तरफ बड़ा गड्ढा कर दिया है, जिस वजह से अब लोगों को खड्ड में भारी पानी के आने का डर सताने लगा है क्योंकि अधिक पानी आने से खड्ड का पानी काफी नुक्सान पहुंचा सकता है।

12 किलोमीटर का अतिरिक्त सफर तय करना पड़ता है
किसी आपातकालीन स्थिति या बारिश के दौरान लोगों को अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए करीब 12 किलोमीटर का अतिरिक्त सफर तय करना पड़ता है। इससे समय के साथ-साथ पैसों की बर्बादी भी होती है।

कहा जाएगा अधिकारियों को : विभाग
लोक निर्माण विभाग के कनिष्ठ अभियंता कुलदीप पठानिया ने बताया कि पुल का डिजाइन 30 मीटर का बनाया गया है, लेकिन पुल की लंबाई 24.75 मीटर है। इसके लिए अधिकारियों की ओर से ठेकेदार को 24.75 मीटर पुल बनाने को कहा जाएगा।

सामग्री पहुंचा दी विभाग नक्शा तैयार नहीं कर पाया
ठेकेदार साहिल शर्मा ने बताया कि आज दिन तक लोक निर्माण विभाग के अधिकारी पुल का नक्शा तक तैयार नहीं कर पाए हैं। इस वजह से काम शुरू नहीं हो पा रहा है। उनकी लेबर व निर्माण सामग्री भी वहां पहुंच चुकी है।

क्या कहते हैं  ग्रामीण
जोगिंद्र सिंह सिंह ने कहा कि विभाग के सुस्त रवैये के चलते लोगों को डेढ़ साल से परेशान होना पड़ रहा है। अब विभाग के कार्यालय के बाहर धरना दिया जाएगा।  सुरेश कुमार ने कहा कि अपने खर्चे पर ग्रामीणों ने छठी बार वैकल्पिक पुल बनाया है। इससे विभाग व सरकार को शर्म आनी चाहिए।  विशाल ने कहा कि जल्द अगर पुल का निर्माण कार्य शुरू नहीं किया तो आगामी विधानसभा सत्र में सरकार का घेराव किया जाएगा।  विशाल ने कहा कि जल्द अगर पुल का निर्माण कार्य शुरू नहीं किया तो आगामी विधानसभा सत्र में सरकार का घेराव किया जाएगा।अनुज पाल ने कहा कि विभाग की हालत इतनी खराब है कि आज दिन तक एक छोटे से पुल का डिजाइन तक नहीं बना सका है। अरुण पाल ने कहा कि बरसात से पहले पुल को पूरा किया जाए, ताकि स्कूली बच्चों व अन्य लोगों को परेशान न होना पड़े।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।