धर्मशाला पुलिस मैदान में सीसीटीवी सहित ड्रोन कैमरा की निगरानी में हो रही भर्ती #news4
November 25th, 2021 | Post by :- | 68 Views

धर्मशाला : पुलिस मैदान धर्मशाला कांस्‍टेबल की भर्ती के दौरान 11 सीसीटीवी कैमरों व ड्रोन से नजर रखी जा रही है। जिला कांगड़ा पुलिस कांस्टेबल के 293 पदों के लिए बुधवार को पुलिस मैदान धर्मशाला में शुरू हुई भर्ती का आज दूसरा दिन है। सुबह ही युवक भर्ती के लिए पुलिस मैदान पहुंचने शुरू हो गए तो कुछ टैक्सी लेकर तो कुछ युवा अपने निजी वाहनों से धर्मशाला पहुंचे। वहीं इसी के साथ ढाबे व जलपान की दुकानों में भी दुकानदारों की आमदनी बढ़ गई है। पुलिस भर्ती प्रक्रिया में पारदर्शिता के लिए हर जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

भर्ती प्रक्रिया परिसर में कुल 11 सीसीटीवी कैमरे स्थापित किए गए हैं। वहीं पुलिस मैदान की ड्रोन से बारीकी से निगरानी सुनिश्चित की जा रही है। पुलिस भर्ती के लिए आने वाले प्रत्येक अभ्यर्थी को अल्पाहार जलपान व कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए कोविड प्रोटोकाल किट प्रदान की जा रही है, जिसमें एक सैनिटाइजर, दो मास्क, एक जूस, एक पानी की बोतल, एक पैकेट बिस्किट व दो केले दिए जा रहे हैं।

पहले दिन की भर्ती में 493 ने पास किया है मैदान

पहले दिन 1146 पुरुष उम्मीदवारों को बुलाया गया था। सुबह छह बजे शुरू हुई मैदान प्रक्रिया के लिए 1146 पुरुष उम्मीदवारों में से 931 उम्मीदवार पहुंचे। इसमें 493 युवा शारीरिक क्षमता एवं मैदान पास कर पाए, जबकि 438 बाहर हो गए। इसमें लंबाई के माप में 135, छाती के माप में 38, लंबी कूद में 58, ऊंची कूद में 170 व 37 युवा दौड़ ही पास नहीं कर पाए।

293 पदों के लिए करीब 50 हजार ने किया है आवेदन

जिला कांगड़ा पुलिस कांस्टेबल के 293 पद हैं। इसमें पुरुष कांस्टेबल के 205, महिला कांस्टेबल की 68 व पुरुष चालक के 20 पद हैं। इन पदों के लिए विभाग के पास 49 हजार 926 आवेदन प्राप्त हुए हैं। पुरुष कांस्टेबल के लिए 36 हजार 793 आवेदन प्राप्त हुए हैं। पुरुष चालक पद के लिए 1377, जबकि महिला कांस्टेबल पदों के लिए 11 हजार 756 आवेदन प्राप्त हुए हैं।

यह बोले पुलिस अधीक्षक

पुलिस अधीक्षक डा. खुशहाल शर्मा ने कहा कि पुलिस भर्ती को पारदर्शी बनाने के लिए सीसीटीवी कैमरे व ड्रोन से निगरानी रखी जा रही है। कोविड-19 प्रोटोकाल का ध्यान रखा जा हा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।