धर्मशाला सरस मेला: गिलोय और शहतूत शरीर रखेंगे मजबूत, 100 रुपये में बिक रहे आंबला लड्डू की भी डिमांड #news4
March 24th, 2022 | Post by :- | 105 Views

धर्मशाला : गिलोय, आंवला, शहतूत, हरड़ शरीर को मजबूत रखेंगे। कोरोना महामारी के दौर में शरीर की आंतरिक शक्ति, रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए विटामिन सी के भंडार आंवला की सबसे ज्यादा जरूरत महसूस की गई। दीवा स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने इन विशेष औषधीय खाद्य पदार्थों को लोगों के टेस्ट मुताबिक उन तक पहुंचाने की पहल की है। कुछ करने की लगन व हिम्मत हो तो कोई भी पहाड़ चढ़ सकता है। ऐसा ही कर दिखाया है राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत विकास खंड बड़ोह, जिला कांगड़ा ग्राम पंचायत सलाहजंद्राह के दीवा स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने। महिलाओं ने गिलोय, आंबला, शहतूत के उत्पादों से ही कदम आगे बढ़ा दिया है। समूह को शुरू हुए अभी एक साल भी नहीं हुआ है और समूह अपने उत्पाद बेचने के लिए धर्मशाला में सजे सरस मेले में पहुंच गया है, जिससे समूह की महिलाएं काफी उत्साहित हैं। महिलाएं ऐसे उत्पाद तैयार कर रही हैं जो लोगों के शरीर व स्वास्थ्य के लिए बहुत बेहतर हैं।

गिलोय जूस, आंवला जूस व शहतूत का जूस बना रही महिलाएं

गिलोय जूस, आंवला जूस, शहतूत जूस, एलोबेरा का सैंपू, एलोबेरा फेसवास, हरड़ आचार, हरड़ मुरब्बा व आंवला लड्डू बिक रहे हैं। विभिन्न उत्पाद महिलाएं तैयार तो कर रही हैं, लेकिन अभी तक उस तरह से उसकी आकर्षक पैकिंग नहीं कर पा रहे हैं। हालांकि वर्तमान में यूरिक एसिड, मधुमेह, पाचन तंत्र व इम्युनिटी बूस्ट करने के लिए यह पदार्थ रामबाण हैं।

यह बोली समूह की सदस्य रीता कुमारी

रीता कुमारी ने बताया कि वह सरस मेले के लिए सामान तैयार करके लाई हैं। उन्होंने बताया सरस मेले में आकर काफी अच्छा लग रहा है। अपनी पैकिंग में और सुधार करेंगे। अभी आंवला लड्डू बनाए हैं जो डिब्बे में बेच रहे हैं और यह डिब्बा सौ रुपये में दे रहे हैं। इसके अलावा गिलोये का जूस, आंवला जूस, शहतूत का जूस के साथ-साथ कचनार का आचार, हरड़ का आचार व मुरब्बा आदि मुख्य रूप से यहां बिक रहा है। यहां पर गलगल खट्टा खाने के लिए भी लोगों को परोसा जा रहा है। उन्होंने बताया कि अभी तो यह समूह कुछ ही समय से काम कर रहा है। दस महिलाएं इस काम को एक साथ मिलकर कर रही हैं। उन्होंने बताया कि समूह की प्रधान नीलम कुमारी हैं उनकी देखरेख में काम हो रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।