जब हार दी दिखाई, तो धुमल की याद आई
October 13th, 2019 | Post by :- | 149 Views

हिमाचल प्रदेश में भाजपा की जयराम सरकार को बने हुए लगभग दो वर्ष पूरे होने को हैं | मगर इस अंतराल में सरकार ने नित नए प्रयोग किये, लेकिन कहीं न कहीं न तो प्रयोग सिरे चढ़े न जनता में वह रुतवा बन सका | सरकार में निर्णय लेने की दृढ शक्ति कभी नहीं दिखी , बहुत सी बार निर्णय डरते डरते लिए गए और विरोध होने पर निर्णय बापिस भी ले लये गए | भाजपा के भीतर एक नै भाजपा तैयार करने की पूरजोर कोशिश की गई मगर यहां भी सफलता कम ही हाथ लगी |
लोकसभा चुनावों में भाजपा ने मोदी फैक्टर के सहारे सभी विधानसभा सीटों पर से बढ़त हासिल की , ऐसे में नई भाजपा को लगने लगा कि शायद उनका कोई प्रयोग सफल हो गया होगा | लेकिन अपने बूते लड़ने बाले उपचुनावों में भाजपा की नई टीम की साँसें फूलने लगी तो फिर से धूमल याद आने लगे | अब भाजपा की नई टीम धूमल के कंधे पर से निशाना साधने की कोशिश कर रही है | खासकर पच्छाद सीट , जहां निर्दलीय उमीदवार के जीतने की संवहावनाएँ नजर आ रही हैं , वहां नई भाजपा के सारे प्रयोग धरे के धरे रह गए नजर आ रहे हैं |
हालाँकि कुछ दिन ही गुजरे थे जब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर को नई भाजपा टीम ने हाशिये पर धकेलने की नाकाम कोशिश की थी | मंडी और शिमला में भाजपा नेताओं और विधायकों ने , अनुराग ठाकुर के कार्यक्रम से दूर रहकर दिखाने की कोशिश की, कि अब जयराम युग की शुरुआत हो चुकी है | मगर भाजपा के राष्ट्रिय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के हिमाचल में अभिनन्दन समारोहों में भाजपा की नई टीम को समझ ही नहीं आ रहा था कि जनसम्पर्क कैसे किया जाए | इसका नतीजा यह हुआ कि बिलासपुर और मंडी दोनों ही जगह पर टीम भाजपा जनसमूह को लाने में बुरी तरह से नाकाम रही |
अब अगर दोनों उपचुनावों में से , भाजपा एक भी सीट हार जाती है , तो सीधे टूर पर इसकी जिम्मेदारी जयराम ठाकुर पर जाएगी | ऐसे में पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल की याद आई , कि हो सकता है उन्ही के सहारे नैया किनारे लग सके | धूमल को पच्छाद उपचुनावों में पार्टी का प्रचार करने का जिम्मा सौंपा गया | अब यह तो समय ही बताएगा कि हासिये पर धकेली गई धूमल भाजपा टीम इन चुनावों में नई भाजपा टीम का साथ देती है या नहीं |

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।