थ्रेसिंग के लिए आसानी से मिलेगा डीजल, कलपुर्जे भी मंगवा सकेंगे, कृषि उपनिदेशक देंगे अनुमति
April 24th, 2020 | Post by :- | 145 Views

लॉकडाउन में गेहूं फसल की कटाई के बाद थ्रेशिंग के लिए कृषि विभाग ने थ्रेशर मालिकों की राहंे आसान कर दी हैं। डीसी राकेश प्रजापति ने कृषि से संबंधित ट्रैक्टर में डीजल डालने की प्रक्रिया को आसान कर ट्रैक्टर मालिकों को राहत प्रदान की है। थ्रेशर मशीन संचालकों को कृषि विभाग के उपनिदेशक के समक्ष कफ्यरू पास के लिए आवेदन करना होगा।

इसी पास से ट्रैक्टर मालिक बेखौफ पेट्रोल पंप से डीजल ले सकेंगे। इसमें हिदायत यही है कि वह डीजल का प्रयोग महज कृषि कार्यों के लिए ही करेंगे। उन्हें विभाग से मिलने वाला पास अपने पास रखना होगा। थ्रेशर मशीन व ट्रैक्टर चालकों में समीरपुर के हरजीत, नगेंद्र, कुमार व सुरेश कुमार ने बताया कि इस बात को लेकर संशय था कि जरूरत पर ट्रैक्टर व थ्रेशर मशीन के लिए डीजल कैसे उपलब्ध होगा।

डीसी ने बताया कि गेहूं की कटाई-गहाई के दौरान किसान, ट्रैक्टर/थ्रेशर मालिक, ऑपरेटर व ढुलाई के वाहन चालक कोविड-19 की रोकथाम के बने नियमों की पालन करेंगे। इस दौरान कार्य में लगे किसी व्यक्ति को बुखार, सूखी खांसी, फ्लू और सांस लेने में तकलीफ के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत 104 अथवा 1077 फोन पर सूचना देना सुनिश्चित करना होगा। फसल कटाई संबंधी कंबाइन मशीनों, ट्रैक्टर व थ्रेशर की मरम्मत अथवा सर्विस सुबह आठ दो बजे तक हो पाएगी।

ऐसे स्थानों को सोडियम हॉइपोक्लाराइट से सैनेटाइज़ करना होगा। यदि किसी मशीन का पुर्जा बाहरी क्षेत्र से लाना अनिवार्य होगा तो जिले से बाहर आने जाने के लिए कृषि विभाग के उपनिदेशक के मोबाइल नंबर 98160 25240 अथवा उनके द्वारा अधिकृत अधिकारी से विशेष परमिट लेना होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।