Diwali 2021: बहुत शुभ होगी दीवाली, तुला राशि में 4 ग्रह करेंगे चमत्कार #news4
October 30th, 2021 | Post by :- | 422 Views

Diwali 2021: पंचांग के अनुसार 4 नवंबर 2021, गुरुवार के दिन कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या के दिन दिवाली के समय 4 ग्रहों की युति बन रही है जो बहुत ही शुभ परिणाम देने वाली है। दीपावली के त्योहार पर इस बार महासंयोग और महामुहूर्त ( Diwali 2021 Shubha Muhurat ) का योग बन रहा है।

दिवाली के दिन रहेगी 4 ग्रहों की युति : ज्योतिष विद्वानों के अनुसार चंद्र, मंगल, सूर्य और बुध तुला में रहेंगे। शनि और गुरु मकर में पहले से ही विराजमान हैं। शुक्र ग्रह धनु में और राहु ग्रह वृषभ में रहेंगे। लग्न तुला का बन रहा है।
4 ग्रह मिलकर करेंगे चमत्कार : माना जा रहा है कि तुला राशि में इन चारों ग्रहों के रहने से शुभ परिणाम देखने को मिलेंगे। सूर्य को ग्रहों का राजा, मंगल को ग्रहों का सेनापति, बुध को ग्रहों का राजकुमार और चंद्रमा को मन का कारक माना गया है। अर्थात यह दिवाली देश, सेना, राजनेता और घर-परिवार सभी के लिए शुभ रहने वाली है।
6 राशियों के लिए सबसे अच्छा समय : ग्रह और नक्षत्रों के मान से 6 राशियों के लिए यह समय बहुत अच्छा माना जा रहा है। मेष, सिंह, मिथुन, वृश्‍चिक, धनु और मकर के लिए यह समय उत्तम रहेगा।
4 नवंबर 2021 को दीपावली के शुभ मुहूर्त ( Diwali Deepawali 2021 Shubha Muhurat )
योग : प्रीति योग प्रात: 11:10 तक उसके बाद आयुष्मान योग पूरे दिन-रात रहेगा।
शुभ मुहूर्त :
अभिजीत मुहूर्त : प्रात: 11:42:32 से दोपहर 12:26:30 तक।
विजय मुहूर्त : दोपहर 01:33 से 02:17 तक।
गोधूलि मुहूर्त : शाम 05:04 से 05:28 तक।
सायाह्न संध्या मुहूर्त : शाम 05:15 से 06:32 तक।
अमृत काल मुहूर्त : रात्रि 09:16 से 10:42 तक।
प्रदोष काल मुहूर्त : शाम 6:10:29 से रात 08:06:20 तक।
महानिशीथ काल मुहूर्त : रात्रि 11:38:51 से 12:30:56 तक।
दिन का चौघड़िया
शुभ- प्रात: 06:39 से 08:00 तक।
लाभ- दोपहर 12:04 से 01:25 तक।
अमृत- दोपहर 01:25 से 02:47 तक।
शुभ- शाम 04:08 से 05:29 तक।
रात का चौघड़िया
अमृत- शाम 05:29 से 07:08 तक
लाभ- रात्रि 12:04 से 01:43 तक।
शुभ- रात्रि 03:22 से 05:01 तक।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।