दूसरों की बुरी बातों पर ध्यान न दें, अपना काम ईमानदारी से करते रहना चाहिए
September 9th, 2019 | Post by :- | 293 Views

काफी लोग दूसरों की बुरी बातों पर ध्यान देते हैं और अपने लक्ष्य से भटक जाते हैं। अगर हम सफल होना चाहते हैं तो हमें दूसरों की बुरी बातों के बारे में नहीं सोचना चाहिए। ईमानदारी से काम करते रहेंगे तो सफलता जरूर मिल सकती है। इस संबंध में एक कथा प्रचलित है। कथा के अनुसार पुराने समय में एक संत अपने शिष्य के साथ किसी गांव में रहते थे। संत की ख्याति आसपास के क्षेत्र में फैली हुई थी। उनके प्रवचन सुनने और दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते थे।

  • संत की प्रसिद्धि देखकर उसी गांव का एक अन्य पंडित परेशान रहता था। उसे लगने लगा था कि इस संत की वजह से मेरे भक्त कम हो जाएंगे। मेरा जीवन यापन कैसे होगा? ऐसा सोचकर पंडित ने संत का दुष्प्रचार करना शुरू कर दिया। वह लोगों के सामने उस संत की बुराई करता था।
  • एक दिन संत के शिष्य ने देखा कि गांव में उसके गुरु की बुराई हो रही है। उसे बहुत गुस्सा आया। वह तुरंत ही अपने गुरु के पास पहुंचा और पूरी बात बताई। संत ने शिष्य की बातें सुनी और कहा कि उसे छोड़ों। अगर मैं उस पंडित से वाद-विवाद करूंगा तो ये सब बातें फैलना बंद नहीं हो जाएंगी। हम किसी का मुंह बंद नहीं कर सकते। इसीलिए ऐसी बुरी बातों पर ध्यान नहीं देना चाहिए। संत ने देखा कि शिष्य का क्रोध शांत नहीं हुआ है।
  • संत ने शिष्य को उदाहरण देते हुए समझाया कि जब जंगल का हाथी गांव में आता है तो उसे देखकर सभी कुत्ते भौंकने लगते हैं, लेकिन हाथी पर इसका कोई असर नहीं होता है। हाथी अपनी मस्त चाल चलते रहता है। कुत्ते भौंकते हुए थक जाते हैं और वापस अपने इलाके की ओर भाग जाते हैं। हमें भी अपनी बुराई करने वालों के साथ इसी तरह पेश आना चाहिए। हमें सिर्फ अपना काम ईमानदारी से करना चाहिए और सत्य के मार्ग पर आगे बढ़ते रहना चाहिए।
  • हमारे अच्छे काम ही विरोधियों को चुप कर सकते हैं। इसीलिए ईमानदारी से काम करते रहना चाहिए और आगे बढ़ते रहना चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।