2 राशियों वाले हाथ-पैर में नहीं बांधें काला धागा, होगा बड़ा नुकसान #news4
April 7th, 2022 | Post by :- | 226 Views
Kala Dhaga: हिन्दू धर्म में पैर में काला धागा और हाथ की कलाई पर लाल या पीला धागा बांधने की परंपरा रही है। हालांकि कई कारणों से हाथ की कलाई पर काला या सफेद रेशमी धागा भी बांधा जाता है। लाल धागे को नाड़ा, मणिबंध, कलावा, रक्षा सूत्र या मौली कहते हैं। लाल या पीला धागा अक्सर मांगलिक कार्य के दौरान बांधा जाता है लेकिन काला या सफेद धागा ज्योतिष की मान्यता या लोकमान्यता के अनुसार कलाई पर बांधा जाता है।
Kala Dhaga Bandhane ke fayde : काला धागा आपने अक्सर बच्चों के पैरों में या कुआंरी लड़कियों के पैरों में बंधा देखा होगा, जिसे काली गोप कहते हैं। ज्यादातर महिलाओं को बाएं पैर में काला धागा बांधे हुए देखा जाता है लेकिन पुरुषों के लिए, दाहिने पैर पर काला धागा बांधना बेहद शुभ माना जाता है। यह कई तरह की अला-बला, भूतबाधा, शत्रुबाधा और नज़र से बचाता है। इस धागे को बांधने से ग्रह दोष दूर होकर बिगड़ते काम बनने लग जाते हैं। ज्योतिष मान्यता के अनुसार मंगल या शनिवार को हनुमान जी का मंत्र पढ़ते हुए दाहिने हाथ में बांधने से कुंडली के राहु, केतु और शनि ग्रह के दोष दूर होते हैं।
2 राशि वाले न पहनें काला धागा : हालांकि ज्योतिष मान्यता के अनुसार काला धागा (Black Thread) 2 राशि वाले लोगों को पहनने से मना किया जाता है क्योंकि यह उनके लिए अच्छा नहीं माना जाता। यदि आपने जाने-अनजाने में यह धागा बांध रखा है तो आप जान लें कि आपकी राशि इन 2 राशियों में से एक तो नहीं है। हालांकि काला धागा हाथ में बांधने से पहले किसी ज्योतिष की सलाह जरूर ले लें, क्योंकि यह नकारात्मकता और किसी अनिष्ट का संकेत माना जाता है। आओ जानते हैं कि वे कौनसी 2 राशियां हैं।
मेष (Aries) और वृश्चिक (Scorpio) : यह दोनों ही राशि मंगल की राशि है। काला रंग राहु और शनि का रंग होता है। मंगल की राहु और शनि से शत्रुता है। ऐसे में मंगलदेव आपसे रुष्‍ठ हो सकते हैं या मंगल का शुभ प्रभाव खत्म होकर राहु का प्रभाव शुरु हो सकता है जो अशुभ भी हो सकता है। राहु जीवन में कई तरह की परेशानी खड़ी कर सकता है। इससे आपके जीवन में घटना दुर्घटना बड़ सकती है और आपको कोई बड़ा नुकसान भी झेलना पड़ सकता है।
अस्वीकरण (Disclaimer) : चिकित्सा, स्वास्थ्य संबंधी नुस्खे, योग, धर्म, ज्योतिष आदि विषयों पर न्यूज़4 में प्रकाशित/प्रसारित वीडियो, आलेख एवं समाचार सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं। इनसे संबंधित किसी भी प्रयोग से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।