क्‍या आपको चल रही है शनि की महादशा? इन 10 लक्षणों से पहचानें #news4
May 10th, 2022 | Post by :- | 123 Views
Shani ki mahadasha ka asar kya hoga: शनि की ढैया ढाई साल की, साढ़ेसाती साढ़े सात साल की और महादशा उन्नीस साल की होती है। इस दौरान शनि जातक को राजा से रंक और रंक से राजा बना सकते हैं। इन 10 लक्षणों से पहचान सकते हैं कि महादशा चल रही है या नहीं। कैसा हो रहा है इसका असर।
1. यदि आपके जोड़ों में अचानक से दर्द रहना प्रारंभ हो जाए तो समझ लें कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है। इसके साथ ही त्वचार और बाल खराब होने लगते हैं। हथेली पीली पड़ जाती है। माथे का तेज खत्म हो जाता है। ललाट पर कालापन नजर आता है।
2. आप हद से ज्यादा झूठ बोलने लगे और आप पर झूठे आरोप भी लगने लगे तो समझ जाएं कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है।
3. आपको नशे की लत लग जाए और निरंतर मांसाहर खाना ही खाएं तो समझ जाएं कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है।
4. अचानक ही आपकी कोई कीमती वस्तु गुम हो जाए या चोरी हो जाए तो समझ जाएं कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है।
5. घर का कोई हिसा टूट जाए और दीवारों में दरारें पड़ जाए तो समझ जाएं कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है।
6. रिश्ते और नातों में भतभेद पड़ जाए, गृह कलेश बढ़ जाए या कहें कि आपके सभी से संबंध खराब हो जाएं तो समझ जाएं कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है।
7. सट्टा लगाने लगो, ब्याज का धंधा करने लगो या किसी पराई स्त्री के चक्कर में रहने लगो तो समझ जाएं कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है।
8. अचानक से धन हानि होने लगे। आर्थिक तंगी बढ़ जाए। नौकरी चली जाए या व्यापार ठप हो जाए तो समझ जाएं कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है।
9. मान सम्मान चला जाता है। बिना बात के ही अपमान सहना पड़ता है तो समझ जाएं कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है।
10. बनते हुए कार्य बिगड़ जाए। लाख मेहनत करने के बाद भी फल नहीं मिले। हर बात में मुसीबतों का सामना करना पड़े। चप्पल या जुटे टूट जाए तो समझ जाएं कि महादशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव हो रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।