इस तरह से उबरे रिश्ते की टूटन से, अवसाद (डिप्रेशन) को हावी न होने दें #news4
October 27th, 2022 | Post by :- | 84 Views

हाल ही में एक बुरा समाचार मिला। मेरे साले साहब की बच्ची पहले तो अपने पति को लेकर ससुराल से अलग हुई और इसके कुछेक माह बाद ही वह अपने पति को छोडक़र अपने पिता के घर आ गई। माँ-बाप से काफी प्रयास किया पति-पत्नी के रिश्ते को सामान्य बनाने का लेकिन सम्भव नहीं हुआ। मामला अब तलाक हेतु पारिवारिक अदालत में विचाराधीन है। भौतिक सुखों की प्राप्ति के चलते आज अक्सर इस तरह के समाचार सुनाई दे जाते हैं। कहीं पर इन रिश्तों के टूटने का कारण आपसी विचार नहीं मिलना रहता है तो कहीं पर अपेक्षाओं के पूरा न होने के कारण रिश्तों में तनाव के साथ टूटन आ जाती है। बढ़ती महंगाई और एकल कमाई से हालात और बदतर होते जा रहे हैं। वर्तमान समय में रिश्तों के टूटने का सिलसिला अब एक आम बात हो चुकी है। माता-पिता न चाहते हुए इसे स्वीकार करते हैं। कई लोग तो रिश्ते की टूटन को बर्दाश्त करते हुए स्वयं को आगे बढ़ाने में सफल हो जाते हैं लेकिन कुछ ऐसे होते हैं जो इस टूटन को बर्दाश्त नहीं कर पाते और वे अवसाद (डिप्रेशन) में चले जाते हैं। आज हम अपने पाठकों को इस समस्या से उबरने के लिए कुछ ऐसे उपायों की जानकारी देने जा रहे हैं जिनके जरिये अवसाद से निजात पा सकते हैं। आइए डालते हैं एक नजर उन उपायों पर—
अपने काम और करियर पर ध्यान दें
अपने काम और करियर पर ध्यान देना जीवन की ओर बढऩे का पहला कदम है। यह बहुत जरूरी भी होता है। रिश्ता टूटने के बाद ज्यादातर समय हमारा ध्यान बिगड़ी हुई परिस्थितियों पर लगा रहता है। हर वक्त हम अपने साथी के जाने से दुखी और बोझिल रहते हैं। इन परिस्थितियों के चलते हम हमारे काम और करियर से दूरी बना लेते हैं। जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए। यदि आप नौकरीपेशा या व्यवसायरत हैं सबसे पहले अपने काम और अपने व्यवसाय में स्वयं को पूरी तरह से इंवाल्व करें और अगर आप अभी पढ़ाई कर रहे हैं और आपका ब्रेकअप हो गया है तो आप अपनी पढ़ाई पर ध्यान लगाएं और अपने करियर के लिए एक लक्ष्य निर्धारित करें।
अपनी यादों से साथी को बाहर करें
ब्रेकअप के बाद उस व्यक्ति से किसी तरह के टच में ना रहें। उससे जुड़ी कोई भी चीज अपने पास ना रखें जो बार-बार आपको उसकी याद दिलाए। 2014 में 464 लोगों पर हुई एक स्टडी के मुताबिक, जो लोग ब्रेकअप के बाद अपने एक्स के साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और अन्य सोशल साइट्स पर जुड़े रहते हैं, वो कभी भी ब्रेकअप के दर्द से बाहर नहीं आ पाते। इसलिए ब्रेकअप के बाद जितनी जल्दी हो सके अपने एक्स को अपने जीवन से पूरी तरह निकाल दें।
अपनी सोच को सकारात्मक रखें
यह सही है कि व्यक्ति जब किसी के साथ रिश्ते की डोर में बंधा होता है तो उसकी सारी दुनिया उसके इर्द-गिर्द ही घूमती है। जब यह रिश्ता टूट जाता है तो नकारात्मक व्यक्ति को अपने घेरे में ले लेती है। हर वक्त जहन में बुरे-बुरे ख्याल आने लगते हैं। आपके मस्तिष्क में सिर्फ एक ही आवाज गूंजती है कि अब आप कुछ नहीं कर सकते हैं। ऐसी परिस्थितियों में आपको हमेशा सकारात्मक रहना चाहिए। अपनी सोच को पॉजिटिव रखते हुए अपने कामों को अंजाम देना शुरू करें। साथ ही अपने चेहरे मन और मस्तिष्क से उदासी को दूर करते हुए जो परिस्थितियाँ हैं उसी में खुश रहना शुरू करें।
अकेले ना रहें
ब्रेकअप होने के बाद आप अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से दूरी बना लेते हैं। ऐसे में आप एकांत में रहना पसंद करते हैं। अकेले रहने से आपके दिमाग में सिर्फ पुरानी यादों की रील घूमती रहती है। ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ रहें। फैमिली के बीच रहें। अगर आप जानवरों के शौकीन हैं तो आप घर पर किसी भी जानवर को पाल सकते हैं। इससे आपका ध्यान पुरानी यादों से हटने लगेगा और आपको एक अच्छा साथी भी मिल जाएगा।
सच्चाई को अपनाएँ
जो भी परिस्थिति हो उसका सामना करें। निराश होने के बजाय सच को अपनाएँ। अपनी आगे की जिंदगी के बारे में सोचें। अगर आप पुरानी बातें सोचते रहेंगे, तो इससे आपको सिर्फ तकलीफ ही होगी और आपका वक्त भी बर्बाद होगा। साथी को जबरन भूलने की कोशिश ना करें। इससे आपको उसकी ज्यादा याद आएगी। आज में जीने की कोशिश करें, पुराना सब कुछ भूलकर आगे बढ़ें।
खुद को वक्त दें
ब्रेकअप से उभरने के लिए जरूरी है कि आप खुद को समय दें। आप किसी ऐसी बुक को पढ़ सकते हैं, जो आपको नॉलेज दें। यही नहीं, अगर आप खुद को समय देना चाहते हैं, तो अपने ड्रेसिंग सेंस पर काम करें, अपने लिए खरीदारी करें, घर पर बने अच्छे खाने का स्वाद लें या अपने पसंदीदा रेस्टोरेंट में जाकर भी आप नई डिशेज को टेस्ट कर सकते हैं। और नई-नई जगहों पर जाकर खुद के साथ टाइम स्पेंड करें।
मनपसंद चीजें करें
ब्रेकअप के बाद आप सब कुछ भूल जाते हैं और ख्यालों में ही खोए रहते हैं। इस समय आपको वह सभी चीजें करनी चाहिए, जो आपको पसंद हों। जब आप किसी रिश्ते में होते हैं, तो आप अपनी चीजों को वक्त नहीं दे पाते। आपके लिए आपका साथी ही सब कुछ हो जाता है। लेकिन उसके जाने के बाद आपको अपनी रुचियों को समय देना चहिए। नाचना-गाना, खेलना-कूदना, कुकिंंग आदि आपको जो पसंद हो आप वो सब कर सकते हैं। हर छोटी-छोटी बात को सेलिब्रेट करें।
सामाजिक तौर पर स्वयं को व्यस्त रखें
खुद को अच्छा महसूस कराने के लिए वो करें जिससे आपको खुशी मिलती है। आप अपने आस-पास वालों से लगातार सम्पर्क में रहें। अपने रिश्तेदारों, नातेदारों के साथ फोन के जरिये या गैट टू गैदर के जरिये अपना समय बिताये। इससे आप अपनी पुरानी यादों से निकलने में सफल होंगे।
सिर्फ स्वयं को दोष न दें
ब्रेकअप के बाद हर उल्टी चीज का दोष आप खुद पर मढऩे लगते हैं। इस समय आपको लगता है कि आपका रिश्ता भी आपकी वजह से ही टूटा है। ऐसा सोचने की बजाय आप वह वजह जरूर तलाश सकते हैं जिसकी वजह से आपका रिश्ता टूटा हो। आप ब्रेकअप को बीमारी ना समझें और नींद व डिप्रेशन की दवाईयों से दूर रहें।
इतना ध्यान रखें आप बीमार नहीं हैं
अवसाद की दवाई या स्लीपिंग पिल्स में ना उलझें, याद रखें आप बीमार नहीं हैं। ये परिस्थिति ऐसी है जो ठीक हो जाएगी। नींद नहीं आ रही हो तो कोई अपनी मनपसंद किताब पढ़ें या लाइट म्यूजिक सुनें। याद रखें यह सिर्फ एक कठिन वक्त है, जो गुजर जाएगा।

आलेख में दी गई जानकारियों को लेकर हम यह दावा नहीं करते कि यह पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।