चुनाव रैलियों में राष्ट्र ध्वज फहराने पर नियमों का पालन जरूरी: डीसी
March 16th, 2019 | Post by :- | 172 Views

चुनाव रैलियों में राष्ट्र ध्वज फहराने पर नियमों का पालन जरूरी: डीसी
प्रचार वाहनों पर एक से ज्यादा पार्टी का झंडा लगाने की अनुमति नहीं

धर्मशाला, 16 मार्च। आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू होने पर चुनाव आयोग के निर्देशों के अनुसार चुनाव प्रचार रैली में राष्ट्रीय ध्वज फहरा सकते हैं लेकिन इस के लिए नियमों का पालन करना जरूरी है।

यह जानकारी जिला निर्वाचन अधिकारी डीसी संदीप कुमार ने देेते हुए कहा कि आदर्श आचार संहिता में कोई भी मंत्री अपने गृह जिला तथा जिस विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी रहे हों उस संबंधित जिला में किसी कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रीय ध्वज नहीं फहरा सकते हैं जबकि मंत्रियों को अन्य जिलों में कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रीय ध्वज फहराने के लिए चुनाव आयोग से अनुमति लेना जरूरी है।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि राजनीतिक दलों के कार्यालयों, प्रत्याशी, एजेंट तथा कार्यकर्ताओं के आवास पर तीन से ज्यादा किसी भी पार्टी के झंडे नहीं लगाए जा सकते हैं। प्रचार वाहनों पर एक से ज्यादा पार्टी का झंडा लगाने की अनुमति नहीं है इस के लिए दोपहिया से लेकर चारपहिया वाहनों पर झंडा लगाने के लिए अलग अलग साइज भी निर्धारित किए गए हैं।


जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि सभी राजनीतिक दलों एवं प्रत्याशियों को चुनाव प्रचार के होर्डिंग, फलैक्स, पोस्टर और पैम्फलेट इत्यादि लगाने से पहले संबंधित निर्वाचन अधिकारी को इस बारे लिखित जानकारी देना जरूरी है इसके अलावा निजी संपति पर इस प्रकार की प्रचार सामग्री लगाने से पूर्व संपति मालिक से लिखित में प्राप्त पूर्व अनुमति बारे भी निर्वाचन अधिकारी को अवगत करवाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति किसी प्रत्याशी के प्रचार कार्य पर निजी तौर पर राशि खर्च नहीं कर सकता है, ऐसा पाए जाने पर खर्चा प्रत्याशी या पार्टी के खाते में जोड़ा जाएगा।


संदीप कुमार ने कहा कि सभी राजनीतिक पार्टियों को आचार संहिता का पालन करना होगा। उन्होंने कहा कि हैण्डबिल और पोस्टर में ऐसी भाषा का प्रयोग ना करें जो किसी व्यक्ति या समाज को आहत करती हो। उन्होंने कहा कि जिला में स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिप्रिय चुनाव संपन्न करवाने के लिए सभी प्रबंध सुनिश्चित किए गए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।