हिमाचल के ग्रीन जोन वाले सात जिलों में शुरू हो सकती हैं आर्थिक गतिविधियां
April 28th, 2020 | Post by :- | 243 Views

हिमाचल प्रदेश के ग्रीन जोन में तीन मई के बाद आर्थिक गतिविधियां शुरू हो सकती है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष प्रदेश का पक्ष रख चुके हैं। पीएम से वीडियो कांफ्रेंस पर मुख्यमंत्रियों की बैठक में जयराम ने कहा कि हिमाचल तीन मई के बाद भी लॉकडाउन बढ़ाने के लिए तैयार है। हालांकि, आर्थिक गतिविधियां शुरू करने के लिए ग्रीन जोन में रियायतें मिलनी चाहिए। ऐसे में तीन मई के बाद राज्य के सात जिलों में रियायतें मिल सकती हैं। इनमें छह जिले ऐसे हैं जिनमें अब तक कोरोना वायरस का एक भी मामला नहीं आया है। इसमें शिमला, मंडी, कुल्लू, किन्नौर, लाहौल-स्पीति और बिलासपुर शामिल हैं। वहीं, सोलन जिले में भी अब कोई केस नहीं है। राहत की बात ये भी है कि बीते छह दिन में कोरोना का कोई नहीं मामला नहीं आया है। मुख्यमंत्री जयराम भी इस बात का जिक्र कर चुके हैं। मुख्यमंत्री के अनुसार राज्य के छह जिले ग्रीन जोन में हैं। इन जिलों में एक भी मामला सामने नहीं आया है। उन्होंने कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत लॉकडाउन जारी रखने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि राज्यों को आर्थिक गतिविधियां शुरू करने विशेषकर ग्रीन जोन में आने वाले क्षेत्रों में गतिविधियां चलाने की मंजूरी दी जा रही है।

नया मामला नहीं आया तो तीन के बाद कोरोना मुक्त होगा हिमाचल
सीएम ने उम्मीद जताई है कि नया मामला नहीं आया तो तीन मई के बाद हिमाचल कोरोना मुक्त हो जाएगा। प्रदेश में 40 में से अब 10 कोरोना पाजिटिव मरीज हैं। 25 स्वस्थ होकर घर चले गए हैं। चार व्यक्ति प्रदेश से बाहर इलाज करवा रहे हैं जबकि एक व्यक्ति का देहांत हो चुका है।  राज्य में जांच अनुपात 700 प्रति 10 लाख व्यक्ति है, जो देश में सबसे अधिक है। उन्होंने कहा कि एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान एक विशेष अभियान है, जिसमें 70 लाख लोगों की इन्फ्लुएंजा जैसी बीमारी जांचने को 16 हजार कर्मचारियों के दल की ओर से जांच की जा चुकी है। इस काम में आशा कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, पैरा मेडिकल स्टाफ और पुलिस कर्मचारी शामिल हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।