शिक्षा / किसी भी काम को शुरू करने से पहले पूरी जानकारी एकत्र कर लें, वरना हानि हो सकती है
October 19th, 2019 | Post by :- | 176 Views

प्रचलित लोक कथा के अनुसार पुराने समय में एक राजा शिकार के लिए जंगल में गया। राजा जंगल में बहुत आगे तक चला गया और इस वजह से वह वापस अपने राज्य में लौटने का रास्ता भूल गया। रास्ता खोजते-खोजते वह बहुत थक चुका था। भूख-प्यास से उसकी हालत खराब होने लगी थी।

  • बहुत भटकने के बाद राजा को जंगल में एक झोपड़ी दिखाई दी। वह झोपड़ी के पास गया और वहां रहने वाले वनवासी से राजा ने खाना और पानी मांगा। वनवासी ने राजा को खाना खिलाया और राजा के प्राण बचाए। उसने राजा को जंगल से बाहर निकलने के रास्ता भी बताया।
  • राजा बहुत प्रसन्न हुआ और वनवासी से कहा कि हम इस राज्य के राजा हैं और तुम्हारे आतिथ्य से खुश हैं, इसीलिए हम तुम्हें हमारे नगर का चंदन का बाग उपहार में देते हैं। इसके बाद वनवासी के बताए हुए रास्ते से राजा अपने नगर में लौट गया। वनवासी भी राजा के नगर में पहुंचा और राजा की आज्ञा से उसे चंदन के बाग मिल गया।
  • वनवासी को चंदन के गुण और उसके महत्व की जानकारी नहीं थी। वह चंदन की लकड़ी जलाकर उससे कोयला बनाता और कोयला बाजार में बेचकर थोड़ा बहुत धन कमाने लगा।
  • धीरे-धीरे बाग के सभी चंदन के पेड़ खत्म हो गए। एक पेड़ बचा था। वनवासी अंतिम पेड़ को काटता, उससे पहले बहुत बारिश होने लगी। बारिश की वजह पर पेड़ जलाकर कोयला नहीं बना पाया। तब उसने सोचा कि पेड़ की लकड़ी ही बेच आता हूं। थोड़ा बहुत धन तो मिल ही जाएगा।
  • जब वनवासी चंदन की लकड़ी लेकर बाजार में गया तो चंदन की महक बाजार में फैल गई। बाजार में उसकी सभी लकड़ियां बहुत अधिक धन में बिक गई। यह देखकर वनवासी हैरान हो गया कि मैंने तो इस बहुमूल्य लकड़ी को जला-जलाकर कोयला बनाकर बेचा, जबकि ये तो बहुमूल्य लकड़ी है। वनवासी को अपने अज्ञान की वजह से पछतावा हो रहा था, लेकिन अब कुछ नहीं हो सकता था।

कथा की सीख
सही जानकारी के अभाव में वनवासी को बहुत नुकसान हुआ। यही बात हमारे जीवन पर भी लागू होती है। किसी भी खास काम को शुरू करने से पहले उससे जुड़ी सभी जानकारियां एकत्र कर लेनी चाहिए, तभी सफलता मिल सकती है। अगर किसी चीज की सही जानकारी नहीं होगी तो अच्छे अवसर का भी लाभ नहीं मिलता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।