सैनिक स्कूलों में भरे जाएंगे शिक्षकों के आठ हजार पद, करें ऑनलाइन आवेदन
September 9th, 2019 | Post by :- | 183 Views
आर्मी वेलफेयर एजुकेशन सोसायटी ने आर्मी पब्लिक स्कूलों में खाली पड़े पीजीटी, टीजीटी और पीआरटी शिक्षकों के आठ हजार पदों को भरने के ऑनलाइन आवेदन मांगे हैं। बेरोजगार प्रशिक्षित अध्यापकों के लिए आर्मी स्कूलों में नौकरी पाने का सुनहरा मौका मिला है। आवदेन करने की अंतिम तिथि 21 सितंबर तय की गई है। विभिन्न राज्यों में वर्तमान में 137 आर्मी पब्लिक स्कूलों के माध्यम से बच्चों को शिक्षा दी जा रही है। आर्मी स्कूलों में शिक्षकों के खाली पदों को आर्मी वेलफेयर एजुकेशन सोसायटी लिखित परीक्षा के आधार पर भरेगी। आर्मी पब्लिक स्कूलों में अंग्रेजी, हिंदी, संस्कृत, इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र, राजनीतिक विज्ञान, गणित, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, बायोटेक्नोलॉजी, साइकोलॉजी, कॉमर्स, कंप्यूटर साइंस, गृह विज्ञान और शारीरिक शिक्षा सहित 17 विषयों के पदों पर पीजीटी की भर्ती होगी।
प्रशिक्षित कला स्नातक में अंग्रेजी, हिंदी, संस्कृत, इतिहास, भूगोल, राजनीतिक विज्ञान, गणित, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान व बॉयोलॉजी सहित 10 विषयों में नियुक्तियां होंगी। इसके अलावा पीआरटी शिक्षक भी नियुक्त होंगे। पीटीजी पद के लिए 50 प्रतिशत पोस्ट ग्रेजुएट में अंक तथा बीएड का होना अनिवार्य किया गया है। टीजीटी पद के लिए ग्रेजुएशन में 50 प्रतिशत अंक और बीएड का होना जरूरी है।

आवेदन करने वाला अभ्यर्थी सीटेट/टेट पास हो। आवेदन करने के लिए अभ्यर्थी की आयु 50 वर्ष से कम होनी चाहिए। पीआरटी शिक्षक को बीएड या फिर दो वर्ष का डिप्लोमा तथा आयु सीमा 40 वर्ष से कम होनी चाहिए। सभी पदों के आवेदन के लिए फीस 500 रुपये निर्धारित की गई है।

अभ्यर्थियों को एडमिट कार्ड चार अक्तूबर को जारी किए जाएंगे तथा 19 और 20 अक्तूबर को लिखित परीक्षा होगी। परीक्षा का परिणाम 30 अक्तूबर को आएगा। आर्मी वेलफेयर एजुकेशन सोसायटी ने प्रारंभिक परीक्षा के लिए देशभर में 70 परीक्षा केंद्र बनाए हैं। प्रदेश में सोलन ओर कांगड़ा जिले को परीक्षा केंद्र बनाया गया है। आवेदनकर्ता पूरी जानकारी आर्मी वेलफेयर सोसाइटी की वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।