धर्मशाला में कड़ाके की ठंड में भी युवाओं का जोश हाई, तड़के पहुंच रहे मैदान में #news4
November 29th, 2021 | Post by :- | 131 Views

धर्मशाला : जिला कांगड़ा में युवाओं में भर्ती होने का क्रेज बहुत अधिक है। कड़ाके की ठंड के बीच भी युवाओं का जोश कम नहीं हो रहा। जिला कांगड़ा पुलिस कांस्टेबल के 293 पदों के लिए पुलिस मैदान धर्मशाला में चल रही भर्ती का आज सोमवार को छठा दिन है। युवा पुलिस में भर्ती होने के लिए सुबह तड़के ही पहुंच गए। हालांकि कई युवा एक रात पहले ही धर्मशाला पहुंच रहे हैं तो दूर से आने वाले युवा अपने नाते रिश्तेदारों के यहां भी रुक रहे हैं। भर्ती होने की युवाओं की इच्छा पर मैदान बाधा में ऊंची कूद बड़ी चुनौती अब तक साबित हुई है। ऊंची कूद में असफलता ने कई युवाओं के खाकी पहनने के सपने को तोड़ दिया है।

पुलिस मैदान धर्मशाला में चल रही पुरुष कांस्टेबल भर्ती ग्राउंड में रविवार को 1500 उम्मीदवारों को बुलाया गया था। इसमें से 1198 युवा ग्राउंड के लिए पहुंचे। इसमें से 654 युवा ग्राउंड पास कर पाए, जबकि 524 युवा ग्राउंड की बाधा पार करने में सफल नहीं हो पाए। इसमें सबसे अधिक युवा ऊंची कूद में बाहर हुए। ऊंची कूद में 262 युवा बाहर हो गए। इसके लिए लंबाई के माप में 129, छाती के माप में 27, लंबी कूद में 74, दौड़ में 32 अभ्यर्थी असफल हुए। चौथे दिन 679 ने पास किया मैदान पास किया था। भर्ती के तीसरे दिन 689 ने मैदान पास किया। दूसरे दिन ऊंची कूद में 208 युवा हुए बाहर और 411 ने पास किया मैदान पास किया है। जबकि पहले दिन भर्ती में 493 ने मैदान पास किया है।

बोले, पुलिस अधीक्षक, कोविड-19 प्रोटोकाल का रखा जा रहा ख्याल

जिला पुलिस अधीक्षक कांगड़ा डाक्‍टर खुशहाल शर्मा ने बताया कि पुलिस मैदान में पुलिस भर्ती चल रही है। जिला कांगड़ा के लिए पुलिस कांस्टेबल के 293 पद हैं। इसमें पुरुष कांस्टेबल के 205, महिला कांस्टेबल की 68 व पुरुष चालक के 20 पद हैं। इन पदों के लिए विभाग के पास 49 हजार 926 आवेदन प्राप्त हुए हैं। पुरुष कांस्टेबल के लिए 36 हजार 793 आवेदन प्राप्त हुए हैं। पुरुष चालक पद के लिए 1377, जबकि महिला कांस्टेबल पदों के लिए 11 हजार 756 आवेदन प्राप्त हुए हैं। कोविड-19 प्रोटोकाल का भी ध्यान रखा जा रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।