रिज तक एलिवेटर लगाने के प्रोजेक्ट की खोदाई से दुकानों को खतरा #news4
October 19th, 2021 | Post by :- | 161 Views

शिमला : शहर में स्मार्ट सिटी के तहत बन रहे एलिवेटर के काम से लक्कड़ बाजार की दुकानों को खतरा पैदा हो गया है। दुकानों में दरारें आ गई हैं, वहीं कुछ दुकानें तो गिरने की कगार पर हैं। लक्कड़़ बाजार बस अड्डे पर चार दुकानों के आगे दरारें आ चुकी हैं। खोदाई के चलते जमीन बैठने लगी है। एक पेड़ भी जड़ से उखड़ने की कगार पर है। ऐसे में खतरा है कि किसी भी समय यहां पर बड़ा हादसा हो सकता है।

एलिवेटर लगाने से पहले यहां पर मिट्टी की जांच करवाई गई थी। इसके बाद काम को शुरू किया गया। काम शुरू होने से ही इसके निर्माण पर सवाल उठने लगे थे। स्थानीय लोग व दुकानदार निर्माण के दौरान लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं। वे प्रशासन से लगातार निर्माण के दौरान दुकानों को सुरक्षित रखने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि कई वर्ष से यहां पर काम कर रहे हैं, लेकिन अब इस निर्माण कार्य से उनका कोराबार खतरा में पड़ गया है।

कारोबारियों ने इसको लेकर परिवहन निगम के साथ ही नगर निगम प्रशासन से दुकानों को सुरक्षित करने के लिए कदम उठाने की मांग उठाई है। कारोबारी सुरेंद्र व विवेक का कहना है कि रिज के लिए यहां से लिफ्ट लगाई जा रही है। बरसात में खोदाई का काम किया गया, जिससे मिट्टी लगातार धंस रही है। दुकानों में दरारें आ गई हैं। बस अड्डा होने के कारण लोगों की दिन भर दुकानों में आवाजाही रहती है। ऐसे में यहां पर कभी भी बड़ा हादसा होने की आशंका है।

नगर निगम के आयुक्त आशीष कोहली का कहना है कि लक्कड़ बाजार से रिज के लिए एलिवेटर लगाने का कार्य शुरू किया गया है। कार्य रोपवे कारपोरेशन कर रही है। दुकानों को खतरा पैदा होने की सूचना मिली है। इन दुकानों को बचाने के दिशानिर्देश दिए गए हैं। खतरा बने पेड़ों का निरीक्षण भी किया जाएगा। यदि ये गिरने की स्थिति में ही होगा तो हटाया जाएगा। 11 करोड़ रुपये से बनना है एस्केलेटर व एलिवेटर

नगर निगम द्वारा स्मार्ट सिटी के तहत लक्कड़ बाजार से रिज मैदान के लिए एस्केलेटर व एलिवेटर लगाने का काम शुरू किया है। इस पर 11 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। इसके लिए आइस स्केटिग रिक से खोदाई की जा रही है, जिससे बस स्टैंड की दुकानों को खतरा हो गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।