पवन काजल के भाजपा में शामिल होने पर आरएस बाली ने कहा, किसी के लिए नहीं रूकेगा कांग्रेस का विजय रथ #news4
August 20th, 2022 | Post by :- | 96 Views

कांग्रेस राष्ट्रीय सचिव आरएस बाली ने कांगड़ा विधायक पवन काजल समेत कांग्रेस को छोड़ भाजपा में शामिल हो रहे नेताओं को लेकर कहा कि वह लोग कांग्रेस के थे ही नहीं। वह लोग तो पहले ही भाजपा के थे जो कांग्रेस में शामिल हुए थे। कांग्रेस में लहर में उन्होंने चुनाव जीता अपने हलके का विकास करवाया। अब वह लोग फिर भाजपा में शामिल हो गए हैं। उप-चुनावों में कांग्रेस का विजय रथ शुरू हो चुका है। जाने वालों के लिए पार्टी का यह रथ रूकने वाला नहीं है। राजस्थान में भी ऐसा ही कुछ नेता छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे और वहां कांग्रेस के सरकार बनी और अब वह लोग रो रहे हैं।

वहीं जिला कांग्रेस कमेटी के सचिव बाल कृष्ण कपूर ने कहा है कि पवन काजल के भाजपा में शामिल होने से कांग्रेस पार्टी को कोई नुक्सान नहीं है। उल्टा बीजेपी को इसका भारी खामियाजा भुगतना होगा। प्रेस विज्ञप्ति में श्री कपूर ने कहा कि इसका नमूना भाजपा की सदस्यता हासिल करके पवन काजल को कांगड़ा पहुंचने पर दिख गया है। इसमें भाजपा मंडल सहित पूरी बीजेपी नदारद थी। उन्होंने कहा कि कांगड़ा निर्वाचन क्षेत्र में भाजपा से टिकट के चहवानों की लम्बी लिस्ट है जो पिछले 10 दस वर्षों से काजल के कुशासन से लड़ रहे हैं। अब इन चाहवानों में घोर निराशा है और इसका असर आगामी विस चुनावों में पूरी तरह दिखेगा।

जिला कांग्रेस सचिव ने कहा कि चंद लोग पवन काजल को ओबीसी नेता के रूप में प्रचारित कर रहे हैं। लेकिन पिछले 5 वर्षों में भाजपा ने जिला कांगड़ा से जमकर भेदभाव किया है। उन्होंने याद दिलाया की लोकसभा चुनावों में पवन काजल कांगड़ा निर्वाचन क्षेत्र में एक भी बूथ में भी लीड दिलाने में विफल रहे थे। ओबीसी वर्ग भी काजल को कभी अपना नेता नहीं मानता है। ओबीसी वर्ग अब किसी के झांसे में आने वाला नहीं है। ओबीसी वर्ग के लोग अपना भला बुरा अच्छी तरह जानते हैं। बाल कृष्ण कपूर ने पवन काजल की जगह ओबीसी वर्ग के सर्वमान्य पूर्व मंत्री एवम संसद चौधरी चंद्र कुमार को प्रदेश कांग्रेस पार्टी कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त करने पर पार्टी हाईकमान का सही निर्णय बताया है। इससे अब जिला कांगड़ा के साथ ओबीसी वर्ग को भी बेहतर नेतृत्व मिला है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।