कुल्‍लू में कठिनाइयों का सामना करते सात दिव्यांग योद्धाओं ने किया 35 हज़ार किलोमीटर का सफर किया तय #news4
June 24th, 2022 | Post by :- | 48 Views

कुल्‍लू : कठिनाइयों का सामना करते हुए सात दिव्यांग योद्धाओं ने समाज को एक संदेश दिया है। घर से बाहर निकल कर चुनौतियों का सामना करें और अपनी मंजिल को पाएं। अपने को घर के अंदर तक सीमित ना रखें इससे रोजगार के द्वार खुलेंगे। आजादी का अमृत महोत्सव भारत देश में मनाया जा रहा है। सात दिव्यांग योद्धा भी इस आयोजन का हिस्सा बने। यह सात दिव्यांग लखनऊ, लेह लद्दाख, कानपुर तक का 4000 किलोमीटर तक का सफर 15 दिन में अपनी हाथ से चलने वाली कार से पूरा कर रहे हैं। अभी तक 35 हज़ार किलोमीटर का सफर कर चुके है।

कुल्लू पहुंचने पर अपनी आपबीती सांझा की। यात्रा अभियान के मुख्य संयोजक सुनील मंगल ने बताया कि 12 जून को लखनऊ से यह यात्रा शुरू कर शुक्रवार को कुल्लू पहुंचे। यहां से आज शिमला राजभवन जाएंगे। यात्रा का मुख्य उद्देश्य दिव्यांग साथियों के मन में आत्मविश्वास को बढ़ावा देना है व देश के सार्वजनिक स्थलों का परिवेश मुक्त करना है। ताकि उनका आवागमन बाधा-विहीन रहे। एक जनपद एक उत्पाद की धारा से दिव्यांगजनों को जोड़ना, जिससे वे स्वावलंबी बने, उनको अपने गांव, शहर में रोजगार प्राप्त करने में आसानी हो। यात्रा के दौरान अटल टनल रोहतांग में तिरंगा फहराया।

यात्रा अभियान के मुख्य संयोजक सुनील मंगल व उनके साथी स्क्वाइन लीडर, अभय प्रताप सिंह, विजय सिंह बिष्ट, सोमजीत सिंह, रविकांत, बीर सिंह, अन्य सहयोगी साथियों के साथ इस यात्रा कर रहे है। सभी ने यह निर्णय लिया है कि दिव्यांगों को सुदृढ़ बनाना है। सुनील मंगल यात्रा अभियान संयोजक विश्व विख्यात इंश्योरेंस एजेंट पिछले 30 वर्षों से सामाजिक कार्यकर्ता 1995 में दिव्यांग स्वावलंबन, पानी रे पानी संजीवनी पानी 2020 राज्य स्तरीय पुरस्कार, मतदाता जागरुकता अभियान 2008 से 17 विदेश यात्राए आदि कर चुके हैं। अभय प्रताप सिंह, भारतीय वायु सेना से कमीशन प्राप्त अधिकारी, भारतीय क्रिकेट टीम के सीइओ, सामाजिक कार्यकर्ता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।